कारगिल युद्ध में शहीद हुए कैप्टन की बेटी का भारत और पाकिस्तान को यह एक ख़ास संदेश

author image
3:15 pm 5 May, 2016

Advertisement

कारगिल युद्ध में शहीद हुए कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने भारत और पाकिस्तान की सरकार से एक भावनात्मक अपील की है।

जब वह छोटी थी, वह पाकिस्तान से, मुसलमानों से नफरत किया करती थी क्योंकि उसे लगता था कि उसके पापा को इन्होने मारा है। लेकिन बाद में उसे एहसास हुआ कि उसके पापा की मौत के पीछे की वजह यह है ही नहीं।

 

जालंधर की रहने वाली 19 वर्षीय गुरमेहर ने करीबन 4 मिनट के एक वीडियो में बिना बोले सिर्फ प्लेकार्ड्स के जरिए अपनी बात लोगों तक पहुंचाने का एक प्रयास किया है।


Advertisement

गुरमेहर बताती है कि अपने पिता को महज 2 साल की उम्र में खोने के बाद पाकिस्तान के लिए मेरे दिल में नफरत भर गई थी।  यहाँ तक कि गुरमेहर जब 6 साल की थी, उसने एक मुस्लिम महिला को चाकू मारने की कोशिश की थी। क्योंकि उसका मानता था कि उसके पिता की मौत के पीछे वो ही जिम्मेदार है।

आगे गुरमेहर बताती हैं, इस घटना के बाद उनकी माँ ने उन्हें समझाया कि उसके पिता के मौत का ज़िम्मेदार पाकिस्तान नहीं बल्कि वो युद्ध था जो भारत और पाकिस्तान के बीच लड़ा गया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण रिश्तों पर अपनी बात रखते हुए गुरमेहर ने दोनों देशों के बीच युद्ध की गतिविधियों, और एक-दूसरे के प्रति नफरत को ख़त्म करने की अपील की है।

वहीं दोनों देशों की सरकारों से ढोंग को बंद करते हुए समस्या का समाधान निकालने का अनुरोध किया है।

यहाँ देखिए वीडियो:

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement