बिकने जा रहा है 70 साल पुराना आरके स्टूडियो, इस वजह से कपूर खानदान ने लिया इतना बड़ा फैसला

author image
Updated on 27 Aug, 2018 at 2:34 pm

Advertisement

हिंदी सिनेमा की कई क्लासिक फ़िल्मों का गवाह रहा आइकॉनिक आरके स्टूडियो कुछ महीनों बाद बस एक सुनहरी याद बनकर रह जाएगा। मुंबई के चेम्बूर में 70 साल पहले अभिनेता राज कपूर द्वारा खड़ा किया गया मशहूर आरके स्टूडियो अब बिकने वाला है।

 

 


Advertisement

आरके स्टूडियो को बेचे जाने की खबर की पुष्टि खुद एक्टर ऋषि कपूर ने की है। बकौल ऋषि कपूर छाती पर पत्थर रखकर, सोच समझकर पूरी फैमिली ने इस बेचने का निर्णय लिया।

 

शोमैन राजकपूर ने 1948 में मुंबई के उपनगरीय क्षेत्र चेम्बूर में इसकी स्थापना की थी। राजकपूर की कई फिल्मों का निर्माण इस स्टूडियो में किया था।

 

स्टूडियो का नाम राज कपूर के नाम पर रखा गया था। स्टूडियो का लोगो बरसात में राज कपूर और नर्गिस के पोज़ से प्रेरित है, जो बरसात के पोस्टर्स पर भी नज़र आया था।

 

इस पोज में नर्गिस राज कपूर की बारों में झूल रही हैं। आर स्टूडियो ने कई कल्ट और क्लासिक फ़िल्मों का निर्माण किया है।

 



 

70 साल पहले बने इस ऐतिहासिक स्टूडियो में 16 सितंबर 2017 को भीषण आग लग गयी थी और इसका एक बड़ा हिस्सा तबाह हो गया था।

 

 

ऋषि कपूर ने मुंबई मिरर से इस बात को सही बताया कि परिवार ने नई तकनीक के साथ इस जगह को फिर से बनाने की सोची। हालांकि, ये हो नहीं पाया।

 

इस बिक्री के पीछे एक कारण इसकी लोकेशन और लगातार हो रहे घाटे की वजह से कपूर खानदान ने इसे बेचने का फैसला किया, क्योंकि कोई भी नया फिल्म निर्माता उपनगरों में शूट करना नहीं चाहता है। पिछले कुछ सालों से आरके स्टूडियो में फिल्मों की शूटिंग बेहद कम हो गयी थी। कुछ टीवी धारावाहिक और विज्ञापन फ़िल्मों की शूटिंग के दम पर ही स्टूडियो चल रहा था।

 

 

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, कपूर परिवार स्टूडियो बेचने के लिए बिल्डर्स, डेवलपर्स और कॉर्पोरेट्स से संपर्क में है। परिवार की तरफ से ऋषि कपूर ने कहा-

 

“हमने स्टूडियो को रेनोवेट कराया था लेकिन हर बार ऐसा करना मुमकिन नहीं है। कई बार ये जरूरी नहीं कि सारी चीजें आपके हिसाब से ही हों। हम सभी इस बात से बेहद दुःखी हैं।”

बता दें कि आरके स्टूडियो में मौजूद आर.के. फिल्म्स ने बॉलीवुड को कई सुपरहिट फिल्में दी हैं, जिसमें राम तेरी गंगा मैली, श्री 420, मेरा नाम जोकर, आवारा, बूट पॉलिश, सत्यम शिवम सुंदरम और प्रेम रोग जैसी फिल्मों के नाम शामिल हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement