यह सच है कि दुनिया के सबसे अधिक प्रदूषित 15 शहरों में 14 भारत में ही हैं

7:33 pm 3 May, 2018

Advertisement

प्रदूषण का प्रकोप धीरे ही सही बहुत ही भयानक रूप से जीवन को प्रभावित कर रहा है। भले ही आप इसे नजरअंदाज करें, लेकिन इसका कहर जब बरपेगा तो शायद ही कोई इससे बच पाए। समाज, समाज के लोगों से लेकर सरकारें तक इस पर चुप हैं लेकिन स्थिति बेहद ही डरावनी है।

 

 

WHO यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से जारी रिपोर्ट में भारत को सबसे प्रदूषित स्थानों में से एक बताया गया है।

 

इस संस्था ने दुनिया के 20 प्रदूषित शहरों की सूची जारी की है, जिनमें 14 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर भारत में ही हैं। इस सूची की मानें तो उत्तर प्रदेश का कानपुर शहर सबसे प्रदूषित है। वहीं, राजधानी दिल्ली दुनिया का छठवां सबसे प्रदूषित शहर है।

 

 


Advertisement

इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि वायु प्रदूषण के मामले में भारत के इन 14 शहरों की स्थिति बेहद चिंताजनक है। कानपुर, दिल्ली के अतिरिक्त वाराणसी, गया, पटना, आगरा, मुजफ्फरपुर, फरीदाबाद, श्रीनगर, गुड़गांव, जयपुर, पटियाला, लखनऊ और जोधपुर बेहद खराब हालत में हैं।

 

साल 2015 में दिल्ली प्रदूषित शहरों की सूची में चौथे नंबर पर थी। अब यह छठे नंबर पर है।

 

उम्मीद की किरण भी दिखी है।

 

ऐसा नहीं है कि सबकुछ बुरा ही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की इस रिपोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘उज्जवला योजना’ को एक सकारात्मक पहल के रूप में बताया गया है। एलपीजी और विद्युतीकरण से स्थिति की भयावहता को कम किया जा सकता है। प्रदूषण की स्थिति में दिल्ली पीएम 2.5 वार्षिक औसत 143 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है, जो सुरक्षा के मानक के लिहाज से तीन गुना अधिक है।

 

 

प्रदूषण की मार से देश को बचाने के लिए जल्द ही कोई ठोस और तेजी से कारगर उपाय करने होंगे! साथ ही एक सजग नागरिक होने के नाते हमें भी इसको लेकर जागरूक होना चाहिए, ताकि अपनी पीढ़ी स्वच्छ हवा में सांस ले सके।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement