Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

51 शक्तिपीठों में एक है कांगड़ा का ज्वालाजी मंदिर; इसे खोजा था पांडवों ने

Updated on 3 February, 2017 at 1:18 pm By

हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा घाटी में मौजूद ज्वालाजी मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। मान्यताओं के मुताबिक, इस मंदिर को सबसे पहले खोजा था पांडवों ने।



भागवत पुराण के मुताबिक, जब भगवान शिव सती के मृत शरीर को लेकर बदहवाश इधर-उधर भाग रहे थे, तभी भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से सती के मृत शरीर के कई टुकड़े कर दिए। इसका आशय यह था कि भगवान शिव को सती के मृत शरीर के भार से मुक्ति मिल जाए। सती के अंगों के 51 टुकड़े जगह-जगह गिरे और बाद में ये स्थान शक्तिपीठ बने।

ज्वालाजी में सती की जीभ कट कर गिरने की कथा है।

इस मंदिर में माता के दर्शन ज्योति रूप में होते हैंं। मंदिर के अंदर माता की नौ ज्योतियां है जिन्हें, महाकाली, अन्नपूर्णा, चंडी, हिंगलाज, विंध्यावासनी, महालक्ष्मी, सरस्वती, अम्बिका, अंजीदेवी के नाम से जाना जाता है।

इस मंदिर में पांच बार आरती की जाती है, जिसमें भारी संख्या में श्रद्धालु भाग लेते हैं।

मौजूदा समय में जो मंदिर यहां विद्यमान है, उसका निर्माण करवाया था राजा भूमि चंद ने। बाद में महाराजा रणजीत सिंह और राजा संसारचंद ने 1835 में इस मंदिर का पूर्ण निर्माण करवाया।

Advertisement

नई कहानियां

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास


जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम

जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम


पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़

पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़


होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके

होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके


यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?

यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर