JNU देश विरोधी नारेबाजी का आरोपी उमर खालिद पहुंचा कैम्पस

author image
Updated on 22 Feb, 2016 at 1:07 pm

Advertisement

नई दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में देशविरोधी नारेबाजी के फरार पांच आरोपी रविवार देर शाम कैम्पस में पहुंच गए।

इस विवाद का मुख्य आरोपी उमर खालिद भी कैम्पस में मौजूद रहा। उसने छात्रों को संबोधित भी किया। 14 मिनट का एक विडियो यू-ट्यूब पर शेयर किया गया है।

उमर खालिद के अलावा रामा नागा, अनिर्बान भट्टाचार्या, अनंत, आशुतोष भी जेएनयू कैम्पस पहुंचे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ये छात्र घटना के बाद JNU कैम्पस में ही छुपे हुए थे।

रिपोर्टः देश के सभी केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में लगेगा 207 फुट ऊंचा तिरंगा, JNU में पहला

मामले की जानकारी लगते ही दिल्ली पुलिस JNU कैम्पस में पहुंची और विश्वविद्यालय प्रशासन से सभी आरोपियों को सौंपने के लिए कहा। पुलिस बहुत देर तक रुकी भी रही, लेकिन बाद में खाली हाथ लौट गई। बताया गया है कि पुलिस को कैम्पस में जाने की इजाजत नहीं मिली।


Advertisement

वापस लौटे छात्र आशुतोष कुमार ने मीडिया को बताया कि वह अनंत, रामा नागा और अनिर्बान कैम्पस में ही छिपे थे। उन्हें डर था कि बाहर आने पर लोग उन पर हमला कर सकते हैं।

रिपोर्टः रतन टाटा ने ऐसा नहीं कहा कि वह JNU के छात्रों को नौकरी नहीं देंगे

इससे पहले पुलिस ने जेएनयू स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ्तार किया और इन फरार आरोपी छात्रों की तलाश में कई राज्यों में छापेमारी की थी।

इस बीच, कहा जा रहा है कि दिल्ली पुलिस कुछ ऐसे पत्रकारों पर कार्रवाई कर सकती है जो खालिद के सम्पर्क में थे।

गौरतलब है कि गत 9 फरवरी को वामपंथी छात्रों के समूह ने संसद पर हमले के अभियुक्त अफजल गुरु और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के सह-संस्थापक मकबूल भट की याद में एक कार्यक्रम का आयोजन किया था। इसे कल्चरल इवेन्ट का नाम दिया गया था।

यहां के साबरमती हॉस्टल के सामने इसी कार्यक्रम में कुछ लोगों ने अफजल गुरु के समर्थन में और देश के विरोध में नारे लगाए। 10 फरवरी को इस घटना का विडियो सार्वजनिक होने के बाद 12 फरवरी को दिल्ली पुलिस ने नारेबाजी के आरोप में देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया।

जेएनयू में देश के विरोध में नारेबाजी करने वाले छात्रों पर कार्रवाई के विरोधे में कोलकाता के जादवपुर विश्वविद्यालय में भी देश विरोधी नारे लगाए गए थे।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement