नहीं रहीं तमिलनाडु की ‘आयरन लेडी’ जयललिता; करीब तीन महीनों से थीं अस्पताल में भर्ती

author image
12:19 am 6 Dec, 2016

Advertisement

अम्मा के नाम से अपने प्रसंशकों के बीच लोकप्रिय रही जयललिता नहीं रहीं। 5 दिसम्बर की रात 11.30 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। 68 वर्षीय जयललिता को 4 दिसम्बर को अचानक दिल का दौरा पड़ा था, जिसके बाद से वह विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम की निगरानी में थी।


Advertisement

जयललिता के निधन पर अपोलो अस्पताल ने जारी किया आधिकारिक बयान।

प्रधानमंत्री मोदी ने जयललिता के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके निधन से भारतीय राजनीति में गहरी रिक्तिता पैदा हो गई है।

जयललिता के निधन के बाद तमिलनाडु समेत देश भर में शोक की लहर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत देश भर के नेताओं ने जयललिता को श्रद्धांजलि अर्पित की।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जयललिता को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि हमने एक महान नेता खो दिया है। महिलाएं, किसान, मधुआरे और हाशिये पर रखे लोग जयललिता की आंखों से ख्वाब पूरा होते हुए देखते थे। हम जयललिता को बहुत याद करेंगे।

वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जयललिता के निधन पर बहुत दुःखी हूं। वे समाज के कमजोर तबके की एक शक्तिशाली आवाज थीं।

कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी ने कहा कि जयललिता लोगों की नब्ज जानती थीं। उनके जाने से एक बड़ी जगह खाली हुई है।



गौरतलब है कि बुखार और शरीर में पानी की कमी की शिकायत के चलते जयललिता को 22 सितंबर को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इस दुःखद खबर के आते ही उनके प्रसंशकों का जमावड़ा अपोलो अस्पताल के बाहर बड़ी तादाद में है।

कुछ दिन पहले अपोलो हॉस्पिटल्स के चेयरमैन प्रताप सी रेड्डी ने कहा था कि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता पूरी तरह स्वस्थ हैं। लेकिन 4 दिसम्बर की  देर शाम को अचानक उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया। इसके बाद अस्‍पताल की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया कि “कार्डियोलॉजिस्‍ट, पल्‍मोनोलॉजिस्‍ट और क्रिटिकल केयर स्‍पेशलिस्‍ट्स उनका ट्रीटमेंट और मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वह एक्‍स्‍ट्राकार्पोरियल मेमब्रेन हर्ट असिस्‍ट डिवाइस पर हैं। लंदन से डॉक्‍टर रिचर्ड बैली से भी परामर्श लिया गया है।”

जयललिता की सेहत को लेकर तमिलनाडु में हाई अलर्ट जारी किया गया। बड़ी संख्या में लोगों के अस्पताल परिसर पहुंचने और परिसर पहुंचने वाली सड़कों पर लोगों का तांता लगे होने के कारण अस्पताल में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

जयललिता के निधन के बाद AIADMK के वरिष्ठ नेता ओ पनीरसेल्वम ने तमिलनाडु के अगले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली है। शपथ लेने के दौरान उन्होंने अपनी जेब में जयललिता की तस्वीर रखी।

वहीं जयललिता के निधन पर तमिलनाडु में 7 दिन का शोक घोषित कर दिया गया है और साथ ही तमिलनाडु के स्कूल और कॉलेज तीन दिनों तक बंद रहेंगे।

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement