Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

दो दोस्तों ने कबाड़ से बना डाली फ़ौजियों के लिए जैकेट; नई तकनीक से है लैस

Published on 1 February, 2016 at 11:52 am By

हॉलीवुड फिल्में देखने के शौकीन दो दोस्त श्याम चौरसिया और उमेश विश्वकर्मा ने कबाड़ से जैकेट जीपीएस गन बनाई है, जो फौजियों के लिए उपयोगी साबित हो सकती है।

उत्तरप्रदेश के वाराणसी में रहने वाले श्याम चौरसिया के पिता की पान की दुकान है, जबकि उमेश के पिता कारपेन्टर हैं। श्याम अशोक इंस्टीट्यूट से इंजीनियरिंग फर्स्ट सेमेस्टर की पढ़ाई कर रहा है।


Advertisement

इस जैकेट की खासियत यह है कि इसके बैरल के जरिए पीछे से आ रहे दुश्मन पर फायर होगा, वहीं जैकेट में लगे मोशन सेंसर से इंडिकेशन भी मिलता रहेगा। आइए जानते हैं इस कमाल के जैकेट की बेमिसाल तकनीक के बारे में।

अब पीछे से भी आ रहे दुश्मनो को दिया ज सकेगा मात

कबाड़ के पाइप से बने बैरल के जरिए 100 गोलियां दागी जा सकती हैं। जैकेट के पीठ पर 8 बैरल और दाहिने हाथ पर 2 बैरल लगाए गए हैं। ट्रिगर जैकेट के हाथ पर वायर लेस सिस्टम से फिट रहेगा। सेंसर के सामने आते ही ट्रिगर एक्टिवेट हो जाएगा और दबाते ही फायर होगा। दुश्मन बगल से हमला करेगा तो स्विच के जरिए हाथ के गन को ऑन कर फायर किया जा सकेगा।

अब दुश्मन को खोज पाना होगा आसान

महज 300 रुपए की लागत से बने इस जैकेट में बॉडी मोशन, सेंसर और इंडिकेटर तकनीक लगाई गई है। इसकी रेन्ज 100 मीटर की । इस रेन्ज अगर दुश्मन आता है तो यह एक्टिवेट होकर एलईडी इंडिकेटर से संकेत देगा।

जवानों का लोकेशन पता करने में सक्षम



जीपीएस कंट्रोल रूम के सर्वर से अटैच कर इसकी कोडिंग की जा सकती है, जिससे जवानों के लोकेशन के बारे में पता चल सकेगा। इस सुविधा के लिए मात्र 2200 रुपए की लागत आएगी।

पावर के लिए 9 वोल्ट की बैटरी

सेंसर, ट्रिगर और जीपीएस को पावर के लिए इसमें 9 वोल्ट की बैटरी फिट की गई है, जिसकी कीमत मात्र 100 रुपए है। भविष्य में इसमें सोलर प्लेट को उपयोग में लाने की योजना है।

खराब कबाड़ से बनाया डीवीडी सॉकेट

खराब कबाड़ से 6 सॉकेट लिया गया है। इसकी कीमत 200 रुपए है। सभी को एसेम्बल करके कनेक्टिंग सर्किट बनाकर जोड़ा गया है। इसमें एलईडी लाइट, फायरिंग सिस्टम औ सेंसर इसी के सहारे एक दूसरे से अटैच होकर काम करेंगे।

रेडियो फ्रिक्वेंसी रिमोट से लैस ट्रिगर


Advertisement

मात्र 350 रुपए का यह ट्रिगर रेडियो फ्रिक्वेंसी रिमोट के आधुनिक तकनीकी से इसमें फिट किया गया है। यह वायरलेस होगा। मोशन सेंसर से इंडिकेटर के जरिए जानकारी मिलते ही गन को स्विच से एक्टिवेट किया जाएगा। इससे आवश्यकतानुसार फायर किया जा सकता है।


Advertisement

आपकी क्या राय है भारत के ऐसे प्रतिभाशाली इनोवेटर्स के बारे में ?

Advertisement

नई कहानियां

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़

जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर