बांग्लादेश में हिंदुओं पर बड़ा हमला, 100 से अधिक घर फूंके

Updated on 12 Nov, 2017 at 3:35 pm

Advertisement

बांग्लादेश में हिंदुओं पर बड़े हमले की खबर है। हजारों की संख्या में इस्लामिक कट्टरपंथियों ने हिंदुओं के करीब 100 से अधिक घरों को आग के हवाले कर दिया और दर्जनों घरों में लूटपाट की। यह हमला फेसबुक पर एक कथित आपत्तिजनक पोस्ट की वजह से किया गया था। घटना ढाका से करीब 300 किलोमीटर दूर रंगपुर जिले के ठाकुरपाड़ा गांव में हुई है। हिसंक लोगों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने गोलियां चलाई, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई घायल हो गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक कथित आपत्तिनजक पोस्ट को लेकर यहां बड़ी संख्या में इस्लामिक कट्टरपंथियों की भीड़ ने हिंदुओं की बस्तियों पर हमला कर दिया, जिसमें बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हमलावरों की संख्या करीब 20 हजार थी।

घटनास्थल पर जबतक पुलिस पहुंचती, तब तक हमलावरों ने लगभग पूरे गांव को तहस-नहस कर दिया था।

बीडीन्यूज24 के अनुसार, पुलिस ने स्थिति पर काबू पाने के लिए रबर बुलेट और आंसू गैस का उपयोग किया, लेकिन इससे कुछ खास नहीं हो सका। लिहाजा पुलिस ओ गोलीबारी करनी पड़ी, जिसमें 1 की मौत और 5 व्यक्ति के घायल होने की खबर है। पुलिस ने इस मामले में 33 लोगों को गिरफ्तार किया है।

जिला प्रशासन ने तीन सदस्यों की जांच समिति का गठन कर सात दिन में अपनी रिपोर्ट देने की बात कही है। हिंदुओं की बस्ती पर हमला करने से पहले भीड़ ने पुलिस स्टेशन के सामने भी प्रदर्शन किया था। इलाके में अब भी तनाव व्याप्त है।

बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर हमले की घटना नई नहीं है। हाल के दिनों में बांग्लादेश में कई हिंदू पुजारियों पर हमला कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। वहीं, कई सेक्युलर ब्लॉगर्स भी इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर रहे हैं। इससे पहले ढाका विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. अब्दुल बरकत ने दावा किया था कि प्रतिदिन के हिसाब से औसतन 632 हिन्दू बांग्लादेश छोड़ रहे हैं और अगर यह पैटर्न जारी रहा तो जल्दी ही बांग्लादेश में हिन्दू नहीं बचेंगे।

प्रोफेसर बरकत का दावा है कि 1964 से 2013 के बीच करीब 1 करोड़ 13 लाख हिन्दुओं ने धार्मिक भेदभाव और उत्पीड़न की वजह से बांग्लादेश का त्याग कर दिया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement