इस्लामिक स्टेट में बंदूक, बुलेट और टैंक के सहारे गणित सीखते हैं बच्चे

author image
Updated on 18 Feb, 2017 at 1:55 pm

Advertisement

इराक का एक बड़ा हिस्सा अब भी अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के कब्जे में है। यहां रहन-सहन से लेकर शिक्षा तक पर इस्लामिक स्टेट का प्रभाव है।

यह अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठन बच्चों को गणित सिखाने के लिए बंदूक, बुलेट और टैंकों की तस्वीरों का सहारा ले रहा है।

इराक का मोसुल शहर जहां इस्लामिक स्टेट का मुख्यालय है, के स्कूलों में पहली कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों की किताबों में सवाल और इसका जवाब समझाने के लिए एके 47 राइफल्स, इस्लामिक स्टेट के झंडे, टैंक्स और मिलिट्री एयरक्राफ्ट्स की तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया है।

यह किताब पूर्वी मोसुल के अल मुथाना जिले में स्थित एक स्कूल का है।


Advertisement

माना जा रहा है कि इस्लामिक स्टेट बच्चों को इस तरह का सिलेबस पढ़ाकर उनका ब्रेनवॉश कर रहा है। इससे पहले भी ऐसी पुस्तकों की तस्वीरें इन्टरनेट पर वायरल होती रही हैं, जिनका उपयोग बच्चों के ब्रेन वॉश के लिए किया जाता रहा है।

यही नहीं, इराक में बच्चों की स्कूली शिक्षा में बम निर्माण शामिल है।

सीरिया के पत्रकारों के समूह ने इस तरह की कई अन्य पुस्तकों की तस्वीरें भी जारी की हैं। ये पुस्तकें रक्का से हैं।

चिन्ता की बात यह है कि इस्लामिक स्टेट यूरोप जाने वाले शरणार्थी बच्चों को अपने साथ शामिल करने की योजना पर अमल कर रहा है, ताकि वे यूरोप में अपने मकसद में कामयाब हो सकें।

काउंटर एक्स्ट्रीमिस्म थिंक टैंक क्वीलियम का मानना है कि इस्लामिक स्टेट बच्चों को पूंजी के तौर पर देखते हैं और इनमें खासा निवेश करते हैं ताकि वे खालिस आतंकवादी बनाए जा सकें।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement