इस आदमी के नाम से थर-थर कांपता है आतंकवादी संगठन ISIS

author image
Updated on 31 Dec, 2015 at 11:24 am

Advertisement

जिस आतंकवादी संगठन ने पूरी दुनिया में आतंक का माहौल कायम कर दिया है, वह संगठन एक शख्स का नाम सुनते ही कांपने लगता है। उसे लोग ‘मौत का फरिश्ता’ बताते हैं। जिसने अब तक ISIS के करीबन 1500 लड़ाकों को मौत के घाट उतार दिया है। इस शख्स का नाम है अबु अजरायल, जिसे इराक में एक योद्धा की तरह देखा जाता है। इराक में अबु खासतौर से शियाओं के बीच लोकप्रिय है।

इराक में लोग अबु को किसी हीरो से कम नहीं मानते। चेहरे पर हंसी, ऊंची कद-काठी, सबसे मिलना-जुलना, लोग उसे अपना मसीहा बताते हैं।

Abu Azrael

jewsnews


Advertisement

लेकिन जब यही अबू दुश्मनों का खात्मा करने के लिए मैदान पर उतरता है तो उन आतंकियों के लिए किसी यमदूत से कम नहीं होता। आपको बताते दें कि अबु अजरायल पर बगदादी की फ़ौज ने करोड़ों का इनाम रखा है, लेकिन वह इसका बाल भी बांका नहीं कर सके हैं।

अबु इराक में शिया मिलिशिया इमाम अली ब्रिगेड का नेतृत्व करता है। इराक में यह ब्रिगेड इस्लामिक स्टेट के खिलाफ जंग के मैदान में है।



अबु इराक में ISIS के खिलाफ लड़ने वाला सबसे चर्चित लड़ाका है। उसकी फौज इराकी सेना का साथ दे रही है। उसके एक हाथ में भारी मशीन गन और दूसरे में कुल्हाड़ी, हमेशा उसके साथ होती है। अब यही उसकी पहचान बन गया है।

आपको यह सुनकर थोड़ी हैरानी हो कि 40 साल का अबु कभी यूनिवर्सिटी में लेक्चरर हुआ करता था। लेकिन ISIS के आतंक को देखकर, अपने वतन की हिफाज़त के लिए अबु ने नौकरी छोड़ दी और 2014 में ISIS के खिलाफ जंग की शुरुआत की। अबु इराक में तायक्वोंडो का नैशनल चैंपियन भी रह चुका है।

अबु अजरायल वह चेहरा बन चुका है जो आतंक के खिलाफ अपनी साहसी जंग लड़ रहा है। एक ऐसा शख्स जिस पर इराक को ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों को भी गर्व है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement