तोंद से है प्यार तो भूल जाइए प्रमोशन, IPS अफसरों को सख्त हिदायत

Updated on 7 Jul, 2017 at 3:21 pm

Advertisement

केंद्र सरकार एक नई योजना पर काम कर रही है, जिससे कि तोंद वाले अफसरों को प्रमोशन से हाथ धोना पड़ सकता है। मोदी सरकार पुलिस अफसरों की फिटनेस को लेकर संजीदा है। गृह मंत्रालय ने भी आईपीएस अफसरों की फिजिकल फिटनेस को उनके प्रमोशन के लिए जरूरी बनाए जाने की सिफारिश की है।

डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग ने सर्विस रूल का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। ड्राफ्ट के नियमों के अनुसार अलग-अलग पदों पर प्रमोशन फिजिकल फिटनेस पर आधारित होगा। सभी राज्य और केन्द्रशासित प्रदेशों से सुझाव भी मांगे गए हैं।

साथ ही अफसरों को इंटेलिजेंस, इकोनॉमिक ऑफेंस, साइबर क्राइम, वीआईपी या इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी, काउंटर इंसर्जेंसी और एंटी टेररिज्म में से किन्ही 3 फिल्ड में एक्सपर्ट होना होगा।


Advertisement

Catch News


Advertisement

प्रमोशन में फिटनेस लेवल का सिस्टम कई पैरा मिलिट्री फोर्सेस में भी लागू है। अफसरों की मानसिक सेहत, सुनने की क्षमता, आंखों की रोशनी और फिटनेस के कई जरूरी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए प्रमोशन दिया जाता है।

आपके विचार


  • Advertisement