इस खिलाड़ी को पाने के लिए मच गई होड़, मिनटों में बोली पहुंची करोड़ों के पार

author image
Updated on 28 Jan, 2018 at 7:08 pm

Advertisement

इंडियम प्रीमियर लीग आईपीएल के 11वें सीजन के लिए खिलाड़ियों के हुए ऑक्शन में कई युवा भारतीय खिलाड़ियों का बोल बाला रहा। इन्हीं खिलाड़ियों में से एक रहे राहुल तेवतिया, जिनको अपनी टीम में शामिल करने को लेकर फ्रैंचाइज़ी में होड़ लग गई।

इस ऑक्शन में 24 वर्षीय इस लेग स्पिनर का बेस प्राइस 20 लाख रुपए था, जबकि साल 2017 में राहुल को पंजाब किंग्स इलेवन ने 25 लाख रुपए में खरीदा था। लेकिन अपनी मेहनत के दमखम के बलबूते गांव से निकले इस खिलाड़ी की ब्रांड वैल्यू एक साल में पौने तीन करोड़ रुपए बढ़ गई।

कभी सीही नाम के एक गांव की गलियों में क्रिकेट खेलने वाले राहुल पर कई फ्रैंजाइजीज ने बोली लगाई। दिल्ली डेयरडेविल्स, किंग्स इलेवन पंजाब और सनराइजर्स हैदराबाद तेवतिया को अपनी टीम में लेना चाहते थे, लेकिन आखिर में दिल्ली डेयरडेविल्स ने बाजी मारी।

दिल्ली ने राहुल को 3 करोड़ रुपए में खरीदा लिया।

 

आईपीएल नीलामी से ठीक पहले हुई टी-20 सैयद मुश्ताक अली ट्राफी में राहुल ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 8 मैचों में कुल 13 विकेट हासिल किए थे। ये कहना गलत नहीं होगा कि इस खेल में अपने प्रदर्शन से वह फ्रैंजाइजीज की नज़रों में आए।

 

 

बता दें कि चार साल की उम्र से राहुल ने क्रिकेट खेलना शुरू किया था। वह पहले अपने दोस्तों के साथ गली में क्रिकेट खेलता था। क्रिकेट के प्रति राहुल के बढ़ते रुझान को देखते हुए उनके पिता ने उनका दाखिला बल्लभगढ़ स्थित एक क्रिकेट अकादमी में करा दिया था।

वहां कुछ दिन क्रिकेट की बारीकियां सीखने के बाद राहुल ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर विजय यादव की एकेडमी में ज्वाइन की।

 

 

राहुल के पिता कृष्णपाल तेवतिया पेशे से वकील हैं। वहीं, राहुल के दादा करण सिंह तेवतिया पहलवान थे। वह राहुल को भी अपने जैसा बनाना चाहते थे।


Advertisement

 

 

चाचा धर्मबीर तेवतिया नैशनल हॉकी खिलाड़ी रह चुके हैं। वह भी उन्हें हॉकी के मैदान में ले जाना चाहते थे, लेकिन टेनिस गेंद से टर्न कराने की कला ने राहुल को क्रिकेटर बना दिया।

 

 

राहुल तेवतिया के कोच विजय यादव ने बताया कि जिला, प्रदेश व नैशनल स्तर पर शानदार प्रदर्शन करने के चलते राहुल को 2014 में राजस्थान रॉयल्स की ओर से आईपीएल में खेलने का मौका मिला था। तब राहुल को 20 से 25 लाख रुपये में खरीदा गया था।

इसके बाद राहुल के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए 2015 में एक बार फिर वह राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा बने। 2016 में वह किसी कारण खेल नहीं सके थे। फिर साल 2017 में राहुल को पंजाब किंग्स इलेवन ने 25 लाख रुपए में खरीदा था।

 

 

राहुल तेवतिया वीरेंद्र सहवाग, द्रविड़ और शेन वॉर्न को अपना आदर्श मानते हैं। लेग स्पिन गेंदबाजी के अलावा विस्फोटक बल्लेबाजी करना राहुल को बहुत पसंद है।

 

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement