किशोर दा के सनकीपन के किस्से थे मशहूर, घर के बाहर लिखवा रखा था ‘बिवेयर ऑफ किशोर’

Updated on 4 Aug, 2018 at 2:33 pm

Advertisement

भारतीय सिनेमा के लीजेंड कलाकार किशोर कुमार को उनके अभिनय और गीतों के लिए आज भी याद किया जाता है। किशोर दा ने वर्ष 1946 में फिल्म ‘शिकारी’ से रुपहले पर्दे पर कदम रखा था। वो एक ऐसे अनोखे कलाकार थे जिनकी आवाज के साथ-साथ उनके चुलबुले अदाओं ने लाखों दर्शोकों को अपना दीवाना बना लिया था।

भारतीय सिनेमा में उनके अहम योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। किशोर के करीबी लोगों की मानें तो वो काफी जिंदादिल थे और अपने उसूलों से समझौते नहीं करते थे। इसके अलावा किशोर कुमार की सनक के किस्से भी काफी मशहूर हैं। उनकी जिंदगी से जुड़ी कई ऐसी दिलचस्प बातें हैं, जिन्हें जानने के बाद आप खुद को हंसने से नहीं रोक पाएंगे।

 

 

किशोर कुमार ने अपने घर के बाहर ‘बिवेयर ऑफ किशोर’ नाम का बोर्ड लगवा रखा था। एक बार निर्माता-निर्देशक एच एस रवैल किशोर कुमार से मिलने उनके घर पहुंचे। लौटते वक्त हाथ मिलाने पर किशोर दा ने रवैल के हाथ पर काट लिया। हाथ झटक कर रवैल ने पूछा कि यह क्या किया, तो किशोर ने हंसते हुए जवाब दिया कि आपने बाहर लगा बोर्ड नहीं देखा।

 


Advertisement

 

मशहूर निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी और किशोर कुमार से जुड़ा भी एक दिलचस्प किस्सा है। एक बार किशोर कुमार ने किसी बंगाली ऑर्गनाइजर के लिए शो किया था, लेकिन उसने किशोर दा को शो के पैसे नहीं दिए। इस बात से नाराज किशोर कुमार ने अपने वॉचमैन को सख्त हिदायत दी कि अगर कोई बंगाली बाबू घर पर आए तो उसे अंदर न घुसने दिया जाए।

इत्तेफाक से इसी दौरान मशहूर निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी किशोर कुमार से मिलने उनके घर पहुंच गए, लेकिन वॉचमैन ने उन्हें घर में घुसने नहीं दिया और बेइज्जत करके निकाल दिया।

 

 

किशोर कुमार की इसी तरह की हरकतों की वजह से किसी डायरेक्टर ने परेशान होकर कोर्ट से एक एग्रीमेंट बनवाया था, ताकि किशोर कुमार द्वारा तंग किए जाने पर वो उनपर केस कर सकें, लेकिन किशोर कुमार भला मस्ती मजाक किए बिना कैसे रहते।

एक शॉट के दौरान किशोर कुमार को गाड़ी में बिठाया गया। शॉट खत्म होने के बाद पैकअप भी हो गया, लेकिन किशोर कुमार गाड़ी से सिर्फ इसलिए नहीं निकले क्योंकि डायरेक्टर ने उन्हें बाहर निकलने के लिए नहीं कहा था।

 

किशोर कुमार लाइमलाइट से दूर ही रहना पसंद करते थे। उनके घर ज्यादा देर तक लोग न बैठे सकें, इसलिए उन्होंने लिविंग रूम में हड्डियां लगा रखी थी, जिससे लोग डर कर वहां से चले जाए।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement