दुनिया के सबसे छोटे लोकतंत्र के बारे में आप यकीनन नहीं जानते होंगे ये 17 दिलचस्प बातें

Updated on 22 May, 2018 at 7:50 pm

Advertisement

अगर आप भी अपने देश से बोर होकर कहीं और शांत व सुकून के साथ नई ज़िंदगी शुरू करना चाहते हैं, तो पिटकर्न द्वीप आपके लिए सबसे अच्छी जगह साबित हो सकती है, क्योंकि यहां प्रदूषण के नाम पर बस सुमद्री लहरों का शोर ही है। अब इससे शांत और खूबसूरत जगह भला आपको कहां मिलेगी। भीड़भाड़ से दूर कुदरती खूबसूरती से सराबोर पिटकर्न दूर से देखने पर स्वर्ग सा प्रतीत होता है, लेकिन इस द्वीप पर रहना आपके लिए काफी महंगा साबित हो सकता है। क्योंकि यह न सिर्फ बहुत महंगा है, बल्कि आबादी के नाम पर बस चंद लोग ही यहां रहते हैं।

 

1. दुनिया का सबसे छोटा लोकतंत्र

 

यहां सिर्फ 50 लोग रहते हैं जो द्वीप के मामलों की सुनवाई के लिए एक मेयर नियुक्त करते हैं। यह दुनिया का सबसे छोटा लोकतंत्र है।


Advertisement

 

 

2. दुनिया की दूसरी सबसे छोटी राजधानी

 

पिटकर्न की सारी आबादी राजधानी एडम्सटाउन में रहती है। यह दुनिया की दूसरी सबसे छोटी राजधानी है, पहला नंबर दक्षिण जॉर्जिया और साउथ सैंडविच द्वीप की राजधानी किंग एडवर्ड पॉइंट का है। यहां सिर्फ 18 लोग रहते हैं।

 

 

3. एक जनरल स्टोर है, जो हफ्ते में 3 दिन खुलता है

 

लोगों को अपनी ज़रूरत का सारा सामान बस एक ही जनरल स्टोर पर मिलता है, जो हफ्ते में तीन दिन खुलता है। इस दुकान में 3 महीने में एक बार न्यज़ीलैंड से जरूरत का सारा सामान मंगाया जाता है। इसके अलावा इस द्वीप पर एक पोस्ट ऑफिस और एक पुलिस स्टेशन भी है।

 

 

4. धरती का सुदूर द्वीप

 

किसी भी मानव जाति के स्थायी निवास वाली जगह से यह द्वीप हजारों मील दूर है। ताहिटी जहां लोगों की अच्छी आबादी है, पिटकर्न से 2500 किलोमीटर दूर है। इस द्वीप तक पहुंचने के लिए कोई एयरपोर्ट या सी-पोर्ट नहीं है। यहां पहुंचने के लिए आपको बस नाव से लंबी यात्रा करनी पड़ेगी। यहां पहुंचना बहुत मुश्किल है, अंटार्कटिका पहुंचने से भी ज़्यादा।

 

 

5. ब्रिटिश विद्रोही यहां पहले बसे

 

यहां बसने वाले पहले ब्रिटिश विद्रोही ही थे। 8 चालक दलों का एक सदस्य अक्टूबर 1788 में अपने एक मिशन के तहत ताहिटी में पहुंचा था और वहां 5 महीने रहा। उसके बाद और विद्रोही इस द्वीप पर आए जिसमें से कुछ लौट गए और कुछ वहीं बस गए।

 

 

6. शुरुआत में पत्नियों के लिए हत्या हुई

 

1790 तक यहां 26 व्यस्क थे, लेकिन चार साल बाद सिर्फ 4 पुरुष और 10 महिलाएं ही जीवित रह सकीं। दरअसल, महिलाओं की संख्या कम होने की वजह से एक महिला को कई पुरुषों के साथ रहना पड़ता था और इस वजह से ही विवाद बढ़ा और कई लोगों की हत्या हो गई।

 

 

7. यौन शोषण की घटना ने वैश्विक स्तर पर सुर्खिया बंटोरी

 

2004 में ये द्वीप पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तब सुर्खियों में आया जब मेयर सहित 7 लोगों पर 7 साल की बच्ची से यौन शोषण का आरोप लगा। 6 लोगों पर आरोप साबित हुआ और उनके लिए द्वीप पर ही जेल बनाया गया। इस केस की कानूनी प्रक्रिया न्यूज़ीलैंड में पूरी हुई।

 

 

8. कोई आधिकारिक धर्म नहीं

 

यहां आधिकारिक रूप से कोई धर्म नहीं है, मगर लोग ईसाई धर्म के एक संप्रदाय को मानते हैं।

 

 

9. मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा

 

इस द्वीप पर पुलाउ एकमात्र स्कूल है जहां 15 साल की उम्र तक बच्चे पढ़ सकते हैं। इस स्कूल के मापदंड न्यूज़ीलैंड के स्कूल जैसे ही है, क्योंकि उच्च शिक्षा के लिए बच्चे वहीं जाते हैं और उसका खर्च द्वीप की सरकार उठाती है।



 

 

10. द्वीपवासी हमेशा त्योहार के लिए तैयार रहते हैं

 

द्वीप पर छोटे से उत्सव को भी बड़े पैमाने पर मनाया जाता है और उस दिन सभी लोग सामूहिक भोज के लिए एकत्र होते हैं। धार्मिक छुट्टी के अलावा किसी के जन्मदिन और नए जहाज के आने पर भी उत्सव मनाया जाता है।

 

 

11. होमोसेक्सुएलिटी कानूनी है

 

2015 से यहां समान सेक्स से शादी यहां कानून जुर्म नहीं माना जाता। हालांकि अभी तक ऐसी कोई शादी यहां हुई नहीं है।

 

 

12. मोबाइल नेटवर्क नहीं है, मगर इंटरनेट है

 

द्वीप पर अब भी मैनुअल टेलिफॉनिक सिग्नल चलता है, क्योंकि यहां मोबाइल का नेटवर्क नहीं है। हालांकि, यहां सरकार की ओर से इंटरनेट की सुविधा के लिए सैटेलाइट लगाई गई है, जिसके लिए नागरिको को 2 जीबी डेटा के लिए करीब 4,700 रुपए खर्च करने पड़ते हैं। जो हमारे हिसाब से तो बहुत महंगा सौदा है।

 

 

13. पिटकर्न एकमात्र जगह है, जहां रीड वारबलर (पक्षी) पाए जाते हैं

 

रीड वारबलर जिसे गाने वाले पक्षी के रूप में जाना जाता है, सिर्फ पिटकर्न में ही मौजदू है। साधारण मैना की अनुपस्थिति में इसे ही मैना कहा जाता है और द्वीप पर रहने वाला ये एकमात्र पक्षी है।

 

 

14. राजस्व के कम स्रोत

 

इस सुदूर द्वीप की कमाई का ज़रिया मछलीपालन, खेती, पोस्टल स्टैंप की बिक्री, हस्तकला के अलावा ब्रिटिश सरकार से मिला अनुदान ही है।

 

 

15. हर दिन 10 घंटे बिजली

 

इस द्वीप पर हर दिन सिर्फ 10 घंटे ही बिजली मिलती है। सुबह 8 बजे से दोपहर के 1 बजे तक और फिर शाम को 5 बजे से रात के 10 बजे तक। ये बिजली डिज़ल जनरेटर के ज़रिए मिलती है।

 

 

16. घट रही है आबादी

 

1937 में यहां सबसे ज़्यादा 233 लोग थे, उसके बाद से आबादी लगातार कम होती गई। वर्तमान में 50 लोगों की आबादी में सिर्फ 5 बच्चे हैं और कुछ की उम्र 20 से 40 के बीच है।

 

 

17. यहां रहना बहुत खर्चीला है

 

पिटकर्न चाहता है कि दूसरे देशों से आकर लोग यहां बसे ताकि इस द्वीप की आबादी बढ़े, मगर यहां रहना बहुत महंगा है। यहां बसने के लिए आपके पास कम से कम 14 लाख की बचत होनी चाहिए। घर बनाने का औसत खर्च 66 लाख रुपए और हर साल वहां रहने पर आपको अपने खर्च के लिए कम से कम 5 लाख रुपए चाहिए।

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement