Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

कैलाश मानसरोवर से जुड़े इन रोचक तथ्यों को जानकर आप भी बना लेंगे यहां जाने का मन

Published on 11 June, 2018 at 3:04 pm By

चीन के तिब्बत में स्थित कैलाश मानसरोवर दुनिया का सबसे ऊंचा शिवधाम है। इसे भगवान शिव का स्थायी निवासी भी कहा जाता है। श्रद्धालुओं  के लिए वर्षों से यह पवित्र स्थान आस्था का केंद्र रहा है। भगवान शिव के 12 ज्योतिलिंगो में से इस स्थान को सबसे श्रेष्ठ माना गया है। कहा जाता है कि मानसरोवर के पास स्थित कैलाश पर्वत पर भगवान शिव खुद विराजमान हैं। सनातन धर्म में इस स्थान का धार्मिक महत्व अन्य किसी भी धार्मिक स्थान से कहीं ज्यादा है, जिसकी वजह से लाखों श्रद्धालु प्रतिवर्ष इसके दर्शन के लिए जाते हैं।


Advertisement

 

 

कैलाश मानसरोवर जाने के कई रास्ते हैं, जो ठंडे और ऊंचे पर्वतीय इलाकों से होकर गुजरते हैं। हर साल श्रद्धालुओं के कई दल इन कठिन रास्तों से अपनी यात्रा तय करते हैं। कैलाश मानसरोवर तक पहुंचने का पहला रास्ता उत्तराखंड का लिपुलेख दर्रा है, जबकि दूसरा रास्ता सिक्किम के नाथुला मार्ग है। बीते साल नाथुला दर्रा को चीन ने बंद कर दिया था जिसके कारण यात्रियों को खासी परेशानी हुई थी। हालांकि, इस साल नाथुला दर्रा को श्रद्धालुओं के लिए दोबारा खोल दिया गया है।

 

 

इस यात्रा के लिए फिजिकली फिट होना बेहद जरूरी है। अगर आप शारीरिक रूप से अक्षम हैं तो आपको सरकार द्वारा इस यात्रा पर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। यात्रा से पूर्व सरकार योग्यता और यात्रा से संबंधित शर्तों का विवरण देती है, जिसके बाद चुने गए तीर्थ यात्रियों की घोषणा की जाती है। करीब एक महीने तक चलने वाली इस यात्रा में भारतीय श्रद्धालुओं के कई दल जाते है। इस साल 12 जून से ये यात्रा आरंभ होने वाली है। अगर आप भी इस यात्रा पर निकल रहे हैं तो जान लीजिए इस पवित्र धार्मिक स्थान से जुड़ी ये रोचक बातें।


Advertisement

 

 

कैलाश पर्वत की ऊंचाई

भारत के तिब्बत में स्थित कैलाश मानसरोवर समुद्र सतह से 22,068 फुट की ऊंचाई पर बसा हुआ है। कैलाश भगवान शिव का नाम है और मानसरोवर मानस और सरोवर से मिलकर बना है, जिसका मतलब है मन का सरोवर।

 

 

चार धर्मों का आध्यात्मिक केंद्र है कैलाश पर्वत

कैलाश पर्वत को तिब्बती बोद्ध, बौद्ध धर्म, जैन धर्म, और हिंदू धर्म का आध्यात्मिक केंद्र माना जाता है। इन सभी धर्मों की यहां से एक पौराणिक कथा जुड़ी हुई है।



 

 

कैसे हुआ कैलाश पर्वत का निर्माण

वैज्ञानिकों की माने तो करीब 10 करोड़ साल पहले भारतीय उपमहाद्वीप के चारों ओर समुद्र हुआ करता था। लेकिन इस महाद्वीप के रूस से टकराने के कारण हिमालय निर्मित हुआ। इससे कैलाश पर्वत की रचना हुई।

 

यहां गूंजती है ॐ की ध्वनि

यहां आए श्रद्धालुओं को ॐ की ध्वनि भी सुनाई देती है। तल से परावर्तित होकर निकलने वाली इस ध्वनि को यहां सुना जा सकता है।

 

कुबेर की नगरी है ये

इस स्थान को कुबेर की नगरी भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार गंगा नदी भगवान विष्णु के करकमलों से निकलकर कैलाश पर्वत की चोटी पर गिरती है और भगवान शिव उन्हें अपनी जटाओं में भरदार धरती में बहा देते हैं।

 

स्वर्ग लोक और मृत्यु लोक दोनों है यहां

इस शिवधाम के बारे में लोगों की मान्यता है कि यहां स्वर्ग लोक और मृत्यु लोक दोनो ही हैं। कैलाश पर्वत के ऊपर स्वर्गलोक है, जबकि नीचे मृत्यु लोक बसा हुआ है।

 

 

इस पवित्र स्थान पर है एक चमत्कारी वृक्ष 

बौद्ध धर्म में कहा गया है कि कैलाश मानसरोवर के बीचों बीच एक चमत्कारी वृक्ष है, जिसके फूलों से सभी प्रकार के शारीरिक और मानसिक रोगों को दूर किया जा सकता है।

 

 


Advertisement

वेद पुराण में इस बात का जिक्र है कि कैलाश मानसरोवर पहुंचकर यदि कोई व्यक्ति ध्यान करे तो उसे मोक्ष प्राप्त हो जाता है।

Advertisement

नई कहानियां

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़

जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़


क्या Clash of Clans के बारे में पहले कभी सुना है? जानिए इसके बारे में सबकुछ

क्या Clash of Clans के बारे में पहले कभी सुना है? जानिए इसके बारे में सबकुछ


क्या आप मूली खाने के इन 7 फायदों के बारे में जानते है?

क्या आप मूली खाने के इन 7 फायदों के बारे में जानते है?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Religion

नेट पर पॉप्युलर