तीन दशक तक भारतीय नौसेना को सेवाएं देने के बाद रिटायर होने जा रहा है INS विराट

author image
Updated on 6 Mar, 2017 at 2:29 pm

Advertisement

करीबन 30 सालों तक भारतीय नौसेना को अपनी सेवाएं देने के बाद नौसेना की शान रहा आईएनएस विराट आज रिटायर होने जा रहा है। मुंबई में विशेष तौर पर आयोजित एक समारोह में आईएनएस विराट को भव्य विदाई दी जाएगी। इस समारोह में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर भी मौजूद होंगे।

भारत से पहले यह युद्धपोत 27 साल के कार्यकाल तक ब्रिटिश नेवी में था। इसे 1987 में भारत को बेचा गया। भारतीय नौसेना ने इसे साढ़े छह करोड़ डॉलर में खरीदा था और 12 मई 1987 को सेवा में शामिल किया गया था।

इसका ध्येय वाक्य ‘जलमेव यस्य, बलमेव तस्य’ है, जिसका मतलब होता है, जिसका समंदर पर कब्जा है वही सबसे बलवान है।

आईएनएस विराट का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे अधिक समय तक सेवा देने के लिए भी दर्ज है।

इस युद्धपोत को ‘ग्रेट ओल्ड लेडी’ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह दुनिया का एकलौता ऐसा जहाज है जो इतने लंबे वक्त तक इस्तेमाल किया जाता रहा।

आईएनएस विराट कई महतवपूर्ण अभियानों का हिस्सा रहा है। इनमें जूपिटर मिशन और पराक्रम मिशन महत्त्वपूर्ण हैं।


Advertisement

बेचे जाने के बाद इस युद्धपोत का क्या होगा, इसके बार में मीडिया में रिपोर्ट्स हैं कि अगर चार महीने के भीतर इसका कोई खरीदार नहीं मिलता है, तो युद्धपोत को तोड़कर टुकड़ों में बेचा जाएगा।

आईएनएस विराट को सेवा से हटाए जाने के बाद हमारे पास दो विमान वाहक पोत कम हो जाएंगे, क्योंकि आईएनएस विक्रांत को पहले ही सेवा से हटाया जा चुका है। INS विक्रांत को करीब 18 साल पहले रिटायर किया गया था।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement