देश में पहली बार हुआ खोपड़ी का सफ़ल ट्रांसप्लांट, 4 साल की बच्ची को मिली नई जिंदगी

Updated on 11 Oct, 2018 at 3:31 pm

Advertisement

डॉक्टरों को भगवान यूं ही नहीं कहते। एक भगवान तो वो है जिसने हमें जीवन दिया और दूसरे भगवान हैं डॉक्टर जो कई बार ज़िंदगी और मौत की लड़ाई के बीच झूल रहे इंसानों को नया जीवन देते हैं। कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है पुणे के डॉक्टरों ने। 4 साल की बच्ची की खोपड़ी का सफ़ल ट्रांसप्लांट करके डॉक्टरों ने उसे नई ज़िंदगी दे दी।

 

 

पुणे के डॉक्टरों ने वाकई करिश्मा कर दिखाया है। 4 साल की बच्ची का रोड एक्सीटेंड हुआ, जिसमें उसे गंभीर चोटें आईं। इसमें खोपड़ी के हिस्से को सबसे ज़्यादा 60 फीसदी नुकसान पहुंचा। उसके बचने की उम्मीद बेहद कम थी। लेकिन डॉक्टरों ने 3डी पॉलिथिलीन बोन से सफल ट्रांसप्लांट कर बच्ची की न सिर्फ़ जान बचाई, बल्कि देश का पहला सफल स्कल ट्रांसप्लांट करने का रिकॉर्ड भी बनाया।

 

बच्ची के डैमेज हो चुके खोपड़ी के हिस्से के नाप और आकार के हिसाब से अमेरिका की एक कंपनी ने 3डी पॉलिथिलीन बोन बनाया, जिससे बच्ची का स्कल ट्रांसप्लांट हुआ।


Advertisement

 

 

डॉक्टरों का कहना है कि जब बच्ची को अस्पताल लाया गया तब वो बेहोश थी और उसके सिर से खून बह रहा था। उसे फ़ौरन वेंटिलेटर पर रखा गया। फिर सीटी स्कैन से पता चला उसके दिमाग में सूजन है और खोपड़ी का पिछला हिस्सा टूटकर धंस गया है। इस हादसे के बाद छोटी सी बच्ची को दो बार बड़े ऑपरेशन से गुज़रना पड़ा। उसके बाद वो थोड़ी ठीक तो हो गई, लेकिन सिर का आकार अजीब लग रहा था जिसकी वजह से वो सहज महसूस नहीं कर पा रही थी। फिर माता-पिता ने खोपड़ी का ट्रांसप्लांट कराने का फैसला किया।

 

 

घटों तक चले ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों ने बच्ची की खोपड़ी का सफ़ल ट्रांसप्लांट कर दिखाया। बच्ची अब बिल्कुल ठीक है। ये ट्रांसप्लांट मेडिकल साइंस की बहुत बड़ी तरक्की है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement