सावित्रीबाई थीं देश की पहली महिला शिक्षक, सामाजिक भेदभाव के खिलाफ बुलंद की अपनी आवाज

author image
6:49 pm 3 Jan, 2017

Advertisement

अध्‍यापिका, सामाजिक सुधारक, कवियित्री और वंचितों के समर्थन में आवाज उठाने वाली सावित्रीबाई ज्‍योतिराव फुले के बारे में जितना कहा जाए, शब्दों का भंडार कम ही पड़ेगा। इसी साल 3 जनवरी को उनकी 186वीं जयंती के उपलक्ष्य पर गूगल ने अपना डूडल उन्हें समर्पित कर, उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की थी।

गूगल ने जो डूडल बनाया था, उसमें सावित्रीबाई फुले समाज की सभी वर्गो की महिलाओं को पल्लू में समेटे हुए चित्रित थी।

महाराष्ट्र के सतारा में एक छोटे से गांव नायगांव में 3 जनवरी, 1831 में जन्मी सावित्रीबाई की शादी सिर्फ 9 साल की उम्र में 13 साल के ज्‍योतिराव फुले से कर दी गई थी। सामाजिक भेदभाव और कई रुकावटों के बावजूद सावित्रीबाई ने शिक्षा ग्रहण की, जिसमें उनके पति ने हर कदम पर उनका साथ दिया।

सावित्रीबाई और उनके पति ज्‍योतिराव फुले ने रूढ़िवादी सोच को दरकिनार करते हुए 1848 में पुणे के भिड़े वडाई में महिलाओं के लिए पहला स्कूल खोला।

जिस जमाने में लड़कियों की शिक्षा के बारे में कोई सोचता तक नहीं था, इस दंपत्ति ने अपने साहसिक कदम से एक इतिहास रच दिया।

Jyothirao Phule - Savitribai Phule

सावित्रीबाई और उनके पति ज्‍योतिराव फुले का चित्रण blogspot

सावित्रीबाई ने उस ब्रिटिश शासन काल के दौरान सामाजिक भेदभाव, बाल विवाह, सती प्रथा जैसी कई कुप्रथाओं के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की। 28 जनवरी, 1853 में उन्होंने गर्भवती बलात्कार पीड़िताओं के लिए बाल हत्या प्रतिबंधक गृह की स्थापना की।

एक उज्जवल भारत के निर्माण में उनके अहम योगदान को सम्मानित करते हुए 2014 में पुणे यूनिवर्सिटी का नाम बदलकर सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी कर दिया गया।

सावित्रीबाई अपने अंतिम दिनों में भी देश की सेवा करती रहीं। फुले दंपत्ती द्वारा खोले गए अस्पताल में प्लेग महामारी के दौरान सावित्रीबाई प्लेग के मरीज़ों की सेवा करती थीं, इस प्लेग के चपेट में वह खुद भी आ गई, जिसके कारण 10 मार्च 1897 को उनका निधन हो गया।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement