कसोल के इस कैफे में भारतीयों के लिए है ‘प्रवेश निषेध’ !

Updated on 23 Feb, 2017 at 2:03 pm

Advertisement

वर्ष 2015 में सोशल मीडिया में एक इजराइली रेस्टोरेन्ट द्वारा भारतीय को खाना नहीं परोसने का मामला सामने आया था। हालांकि, हिमाचल प्रदेश में स्थित फ्री कसोल नामक रेस्टोरेन्ट का मालिक एक भारतीय ही है। जांच में पता चला कि रेस्तरां का मैनेजर संभवतः गुस्से में था, इसलिए उसने भारतीय पर्यटक को खाना देने से इन्कार कर दिया। इसके बाद सोशल मीडिया में इस बात पर चर्चा छिड़ी थी कि कसोल नामक इस गांव में भारतीयों के लिए ‘प्रवेश निषेध’ है। इस आरोप को क्रमशः गलत पाया गया।


Advertisement

हिमाचल प्रदेश के ‘कसोल’ गांव में इजरायली व जर्मन पर्यटक सबसे अधिक आते हैं। माना जा रहा है कि व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता की वजह से यहां के रेस्तरां व होटल मालिक जो खुद भारतीय हैं, यहां के पर्यटकों को तरजीह नहीं देते। हालांकि, फ्री कसोल रेस्तरां के अलावा इस तरह का कोई अन्य मामला सामने नहीं आया है।

पूरी तरह इजरायली रंग में बसा है यह गांव।

आम तौर पर यहां आपको इजरायल के झंडे, भाषा दिख जाएंगे। यहां के होटलों में हिब्रू भाषा का प्रयोग किया जाता है।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement