Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

ब्लैकमनी नहीं रहा मुनाफे का धंधा, सकते में स्विस बैंक्स

Published on 30 June, 2017 at 10:32 am By

भारत सरकार के सख्त क़दमों का असर देखने को मिलने लगा है। तमाम चेतावनी और काले धन की वापसी पर छूट आदि घोषणाओं से लोग अब स्विस बैंक की तरफ रुख नहीं कर रहे। लिहाजा स्विस बैंक सकते में हैं।

इधर, भारतीयों ने स्विस बैंक से खूब निकासी की है, जिससे रकम आधी हो गई है। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक भारतीय कालेधन के कुबेरों के 676 मिलियन स्विस फ्रैंक बैंकों में जमा है, जो भारतीय रुपए में 4,500 करोड़ की धनराशि बैठती है। ये पिछली अवधि के मुकाबले आधी है।



साथ ही पाकिस्तानी भी पनामा पेपर कांड की जांच खुलने के डर से लगातार निकासी कर रहे हैं। भारत से दो गुना ज्यादा रकम पाकिस्तान के लोगों ने स्विस बैंक में जमा कर रखे हैं। ये सभी आंकड़े स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक के डाटा के आधार पर सामने आए हैं, जिसमें विदेशी खातेदारों के खातों में जमा धन की पूरी जानकारी दी गई है।

गौरतलब है कि अभी भी आधी राशि स्विस बैंकों में पड़ी है। भारत सरकार ने विदेशों में कालाधन रखने वालों के लिए आम माफी की योजना चलाई थी, जिसमें काफी धन वापस देश में आया भी था। फिर भी स्विस बैंकों से पूरे पैसों का न निकाला जाना इस बात की ओर इशारा कर रहा है कि कुछ धन कुबेर सरकार से भय नहीं खाते।

Advertisement

नई कहानियां

पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़

पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़


होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके

होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके


सोशल मीडिया पर छाया ये सेक्सी ‘आइसक्रीम मैन’, वायरल हुआ वीडियो

सोशल मीडिया पर छाया ये सेक्सी ‘आइसक्रीम मैन’, वायरल हुआ वीडियो


तो इसलिए देश के सबसे बड़े टैक्सपेयर हैं अक्षय कुमार? रितेश देशमुख ने बताई वजह

तो इसलिए देश के सबसे बड़े टैक्सपेयर हैं अक्षय कुमार? रितेश देशमुख ने बताई वजह


टैटू की दीवानगी में इस लड़की ने बना डाला रिकॉर्ड, दोस्त कहते थे पागल

टैटू की दीवानगी में इस लड़की ने बना डाला रिकॉर्ड, दोस्त कहते थे पागल


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

और पढ़ें Business

नेट पर पॉप्युलर