अब भारतीय रेल बनाएगी डीजल और इलेक्ट्रिक से दौड़ने वाली टू-इन-वन इन्जन

author image
Updated on 19 Jan, 2016 at 5:50 pm

Advertisement

भारतीय रेल ऐसे इन्जन बनाने जा रही है, जो न केवल डीजल से चलेगी, बल्कि इलेक्ट्रिक पर भी दौड़ेगी। इस तरह के इन्जन अमेरिका और दक्षिण अफ्रीका में उपयोग में लाए जाते हैं। बताया गया है कि करीब 4500 हॉर्सपावर की क्षमता वाले इस इन्जन का निर्माण वाराणसी स्थित डीजल लोकोमोटिव वर्क्स में किया जाएगा।

फिलहाल भारत में करीब 52 फीसदी ट्रेनें डीजल पर दौड़ती हैं। जब इन ट्रेन रूटों का विद्युतीकरण किया जाता है, तब इन पर इलेक्ट्रिक से चलने वाले इन्जन चलाए जाते हैं। टू-इन-वन इन्जन बनने से एक फायदा होगा कि विद्युतीकरण के बाद भी इसी इन्जन से काम लिया जा सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस तरह के इन्जन को बनाने पर करीब 18 करोड़ रुपए खर्च आएगा। वहीं, 4500 हॉर्सपावर के डीजल इन्जन पर लागत आती है करीब 13 करोड़ रुपए की।


Advertisement

बताया गया है कि इस संबंध में भारतीय रेल के रिसर्च डिजायन एंड स्टैन्डर्ड्स ऑर्गेनाइजेशन (RDSO) को एक प्रस्ताव भेजा गया है। अगर यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया जाता है तो इसका निर्माण पायलट बेसिस पर वाराणसी स्थित डीजल लोकोमोटिव वर्क्स में किया जाएगा।

माना जा रहा है कि ये टू-इन-वन इन्जन डीजल इन्जन की अपेक्षा भारी होंगे और इसकी स्पीड 135 किलोमीटर प्रतिघंटे की होगी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement