भारतीय रेलवे ने तैयार किया देश का पहला स्मार्ट कोच, कई आधुनिक सुविधाओं से है लैस

author image
Updated on 29 Aug, 2018 at 4:16 pm

Advertisement

रेल यात्रियों के सफर को सुरक्षित, यादगार व सुहाना बनाने के लिए अब स्मार्ट कोच वाली ट्रेनें जल्द ही पटरियों पर दौड़ती नजर आएंगी। भारतीय रेल का पहला स्मार्ट कोच बनकर तैयार हो गया है। रायबरेली जिले के लालगंज स्थित रेल कोच फैक्ट्री में मेक इन इंडिया के तहत दो स्मार्ट कोचों का निर्माण किया गया है। इस श्रेणी का पहला कोच मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शित किया गया। आने वाले समय में इस तरह के 100 स्मार्ट कोच बनाने की योजना है।

 

 


Advertisement

फिलहाल, रेलवे इस तैयार स्मार्ट कोच को कैफियत एक्सप्रेस में लगाने जा रही है। रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक, इस तरह के 100 और स्मार्ट कोच अगले कुछ महीनों में तैयार हो जाएंगे और इनको देश की तमाम प्रीमियम ट्रेनों में लगा दिया जाएगा।

 

इंटेलिजेंट सेंसर बेस्ड सिस्टम की सहायता से इस कोच को विशेष सुविधाओं से लैस किया गया है। कोच में अगर एसी नहीं काम कर रहा है और पानी की दिक्कत हो तो अलार्म बज उठेगा। यही नहीं, ये कोच सुरक्षा की दृष्टि से भी काफी स्मार्ट हैं।

 

 

जानिए इस स्मार्ट कोच की खासियत

 

इन स्मार्ट कोच में ख़ास तरह के सेंसर लगाए गए हैं, जो डिब्बे से संबंधित तमाम जानकारी इंटीग्रेटेड कंप्यूटर सिस्टम को भेजते रहेंगे। ऐसे ये कोच ब्रेक घिसने, पहियों की स्थिति, ट्रैक का हेल्थ कार्ड भी बताएगा, जिससे खराबी का पहले ही पता चल सकेगा।

रेलवे के पहिए के ऊपर एक खास तरीके का सेंसर लगाया गया है, इस सेंसर को सेल्फ पावर हार्वेस्टिंग सेंसर कहते हैं। यह सेंसर पहिए में होने वाले कंपन को रिकॉर्ड करेगा और इस बात की जांच करेगा कि कहीं पहिए के बेयरिंग खराब तो नहीं हैं। इसका उद्देश्य रेल हादसों को रोकना है।

 

 

इस कोच में एसी, डिस्क ब्रेक सिस्टम, फायर डिटेक्शन, अलार्म सिस्टम, वॉटर लेवल इंडिकेटर जैसी सुविधाएं हैं। इसके अलावा इमरजेंसी टॉक बैक सिस्टम भी है। कोच के पैसेंजर टॉइलट के पास लगे इस सिस्टम के बटन को दबाकर सीधा गार्ड से बात कर सकेंगे और मदद ले सकेंगे।

 

स्मार्ट कोच में वाई-फाई हॉट स्पॉट सूचना प्रणाली की व्यवस्था की गई है। यात्री अपने लैपटॉप, मोबाइल फोन को वाईफाई से कनेक्ट कर फिल्में देख सकते हैं और गाने सुन सकते हैं।

 

 

इस कोच में जीपीएस आधारित डिजिटल डेस्टिनेशन बोर्ड भी लगाया गया है। इससे  सफर के दौरान पैसेंजरों को यह जानकारी मिलती रहेगी कि अगला स्टेशन कितनी देर में आ रहा है।

 

यदि ट्रेन बीच रास्ते रुकी है तो वह कहां है और क्यों रुकी है, ट्रेन किस स्पीड से चल रही है आदि की जानकारी यात्रियों को दी जाएगी।

 

स्मार्ट कोच में सीसीटीवी की मदद से आर्टीफीशियल इंटेलिजेंस सिस्टम लगाया गया है। इससे हाउसकीपिंग, टीटी, ट्रेनों की पेंट्री, संदिग्ध पैसेंजरों पर नजर रखना आसान होगा।

 

यदि किसी का व्यवहार संदिग्ध दिखेगा तो ये सिस्टम तत्काल इसकी सूचना कंट्रोल रूम को देगा। वहीं, इस कंट्रोल रूम के सिस्टम में पहले से स्टोर की गई अपराधियों की तस्वीरों से भी ये यात्रियों की तस्वीर मिलाएगा। यदि कोई तस्वीर मिलती है, तो तत्काल इसकी सूचना सुरक्षा अधिकारियों को देगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement