देश के राष्ट्रपति की बेटी करती हैं ऐसा काम जानकर चौंक जाएंगे आप!

Updated on 22 Nov, 2017 at 5:42 pm

Advertisement

प्रणब मुखर्जी के बाद रामनाथ कोविंद देश के राष्ट्रपति बने, लेकिन राष्ट्रपति बनने के बाद भी उनकी सादगी बनी हुई है। इतना ही नहीं, उनका परिवार भी बेहद साधारण है। किसी को इस बात का घमंड नहीं कि उनके परिवार के वरिष्ठ सदस्य देश के राष्ट्रपति हैं। कोविंद खुद जितने साधारण हैं, उनकी बेटी भी कुछ ऐसी हैं। तभी तो पिता के पैसों पर ऐश करने की बजाय अपनी पहचान उन्होंने खुद बनाई। वह ऐसा काम करती हैं, जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

कौन हैं कोविंद के परिवार में?

 

रामनाथ कोविंद की पत्नी सविता हाउसवाइफ हैं और इनके दो बच्चे हैं। एक बेटा और एक बेटी।

 

बेटा एक प्राइवेट एयरलाइन कंपनी में काम करता है। कोविंद की बहू पेशे से टीचर हैं। कोविंद ने अपनी ज़िंदगी में बहुत उतार-चढ़ाव देखें, लेकिन कभी ज़िंदगी से शिकायत नहीं की और आगे बढ़ते गए। शायद तभी आज वह देश के सबसे प्रतिष्ठित पद पर हैं।

आत्मनिर्भर है बेटी


Advertisement

कोविंद ने अपने बच्चों को हमेशा आत्मनिर्भर बनना सिखाया। तभी तो उनकी बेटी आज तक अपने पिता के नाम का सहारा नहीं लेती हैं। उन्होंने अपनी पहचान खुद बनाई है।

जी हां, रामनाथ कोविंद की बेटी स्वाति किसी भी आम भारतीय लड़की की तरह अपने पैरों पर खड़ी है और उसने कभी खुद को राष्ट्रपति की बेटी नहीं कहकर इस बात का फायदा नहीं उठाया।

यहां करती थी नौकरी

 

देश के राष्ट्रपति की बेटी स्वाति एयर इंडिया में एयरहोस्टेस थीं। वह ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और अमेरिका जैसे लंबे रूट पर उड़ने वाले एयर इंड‍िया के बोइंग 777 और 787 एयरक्राफ्ट में एयरहोस्टेस थीं। जब उनके पिता राष्ट्रपति चुने गए तो उनके सम्मान समारोह में जाने कि लिए स्वाति ने छुट्टी तो ली, लेकिन किसी को बताया नहीं कि उनके पिता राष्ट्रपति बन चुके हैं, लेकिन जब सबको पता चला तो सब हैरान रह गए। और फिर सुरक्षा कारणों से स्वाति को ग्राउंड ड्यूटी सौंप दी गई।

स्वाति वाकई काफी अलग हैं। वरना आजकल के बच्चे तो ‘मेरे पिता जी कमिश्नर हैं’ और ‘मेरे पापा मंत्री है’ जैसी धमकियां देकर अपनी गलती को भी छुपाने की कोशिश करते हैं और हमेशा पिता के नाम और ओहदे के गलत इस्तेमाल करते रहते हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement