अधिकारियों की लापरवाही की वजह से भारतीय पैरा-एथलीट को बर्लिन में मांगनी पड़ी भीख

author image
Updated on 12 Jul, 2017 at 7:38 pm

Advertisement

भारत में खिलाड़ियों के साथ नाइन्साफी कोई नई बात नहीं है। हालांकि, इस तरह का एक ऐसा मामला आया है, जो आपको झकझोर कर रख देगा। डेली मेल की इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार द्वारा सहायता राशि नहीं पहुंचने की वजह से भारतीय पैरा-एथलीट कंचनमाला पांडे को बर्लिन में भीख मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा।


Advertisement

नागपुर की पैरा एथलीट कंचनमाला पांडे आंखों से नहीं देख सकती हैं, लेकिन उन्हें तैरना आता है। उन्हें अन्य पांच पैरा एथलीट्स के साथ बर्लिन वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए भेजा गया था, लेकिन सरकार द्वारा भेजी गई सहायता राशि उन तक नहीं पहुंची थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि पैसा न होने के कारण उन्हें अनजान शहर में भीख मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा। इन खिलाड़ियों को सरकार और अधिकारियों की गलतियों का खामियाजा भुगतना पड़ा। कंचन एस 11 कैटेगरी की तैराक हैं। वह फ्री स्टाइल, बैक स्ट्रोक, ब्रेस्ट स्ट्रोक सभी प्रकार से तैर सकती हैं। इस साल भारत की ओर से वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशीप में क्वालिफाई करने वाली अकेली महिला पैरा-एथलीट हैं।

इस स्पर्धा में 26 वर्षीया कंचनमाला ने सिल्वर मेडल जीता है।

शूटर अभिनव बिंद्रा ने इस पूरे मसले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और खेल मंत्री विजय गोयल से हस्तक्षेप की मांग की है।

वहीं, विजय गोयल ने इस मामले पर संज्ञान लेने की बात कही है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement