हिन्द महासागर में बढ़ी भारतीय नौसेना की ताकत, पाकिस्तान के होश उड़े

author image
Updated on 13 Feb, 2017 at 10:51 am

Advertisement

हिन्द महासागर में भारतीय नौसेना की बढ़ती ताकत को देख पाकिस्तान के होश उड़ गए हैं। हिन्द महासागर भारत का क्षेत्र है और इस क्षेत्र में भारत अपनी ताकत का विस्तार करने के लिए स्वतंत्र है, इसके बावजूद पाकिस्तान ने इस पर चिन्ता जताई है।

पाकिस्तान के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने हिन्द महासागर में भारत की उपस्थिति को शांति व सुरक्षा के लिए खतरा करार दिया है। हालांकि, भारत इस तरह के आरोपों को सिरे से नकारता रहा है।

दरअसल, भारत हिन्द महासागर में अपनी सुरक्षा को लेकर चिन्तित रहा है। यही वजह है कि भारत यहां अपनी सुरक्षा पंक्ति को मजबूत करने में लगा है, जिससे पाकिस्तान को परेशानी हो रही है।

एक सम्मेलन के दौरान भाषण देते हुए अजीज ने भारत पर हिन्द महासागर का ‘परमाणवीकरण’ करने का भी आरोप लगाया।

अजीज ने कहा कि भारत द्वारा की जा रही इन कोशिशों के कारण हिंद महासागर में अस्थिरता पैदा होने और वहां की शांति भंग होने का खतरा पैदा हो गया है।


Advertisement

अजीज ने कहाः

“हिंद महासागर की सुरक्षा पाकिस्तान के लिए सामरिक महत्व रखती है। यह दुनिया के 30 से ज्यादा देशों को समुद्र तट मुहैया कराता है। न केवल यह एशिया के अहम इलाकों से संपर्क स्थापित करता है, बल्कि दक्षिणी एशिया, मध्य-पूर्व और अफ्रीका के लिए भी एक मुख्य संपर्क सूत्र है। यह ऑस्ट्रेलिया को यूरोप से जोड़ता है। सभी पक्षों के बीच सुरक्षा को लेकर नियमित रूप से बातचीत होनी चाहिए, यह बेहद अहम है।”

सच्चाई यह है कि अजीज भले ही भारत पर हिन्द महासागर के क्षेत्र में अस्थिरता पैदा करने का आरोप लगाता है, लेकिन इस क्षेत्र में शांति भंग करने का काम पाकिस्तान कर रहा है।

इस साल के शुरू में ही पाकिस्तान ने परमाणु शक्ति संपन्न पनडुब्बी से लॉन्च किए जाने वाले क्रूज मिसाइल ‘बाबर-III’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया था।

हकीकत यह है कि पाकिस्तान हिन्द महासागर का परमाणवीकरण कर रहा है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement