कभी 350 रुपये कमाने वाले इस भारतीय की आज इंग्लैंड में है करोड़ों की कंपनी

Updated on 25 Apr, 2018 at 11:51 am

Advertisement

हम सभी जानते है कि सफलता की बुनियाद कई असफल प्रयासों पर टिकी होती है। यूं तो सफलता के कई मूलमंत्र गिनाए जाते है। लेकिन हर सफल व्यक्ति की अपनी एक अलग कहानी होती है। हालांकि, इस बात में कोई शक नहीं कि आपके प्रयास और योग्यता आपको सफलता की उन ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं, जहां पहुंचकर आपके आलोचक आपको आदर्श मानने लगते हैं।

आज हम आपको एक ऐसे ही शख्स के संघर्ष की कहानी बताने जा रहे हैं, जिसने अपनी इच्छा शक्ति से खुद को स्थापित कर अपनी एक अलग पहचान बनाई। कुछ सालों पहले हाथों में चंद रुपये लिए लंदन पहुंचा ये सख्स आज वहां स्थित 18 करोड़ रुपये की कंपनी का मालिक है।

 

dailymail


Advertisement

 

मूल रुप से केरल के रहने वाले 39 साल के इस शख्स का नाम रुपेश थॉमस है, जिन्हें एक बेहतर कल की तलाश लंदन ले गई। बताया जाता है कि इस वक्त रूपेश थॉमस के इंग्लैंड में दो बंगले है, जिनकी कुल कीमत लगभग 10 से 12 करोड़ रुपये है।

 

 

लेकिन इस मुकाम तक पहुंचने के लिए रुपेश को कड़ी महनत करनी पड़ी। 2002 में लंदन पहुंचने के बाद वो मैक्डोनाल्ड में नौकरी करने लगे, जिसके लिए उन्हें 1 घंटे के 350 रुपये दिए जाते थे। इस दौरान वह निराश नहीं हुए और पूरी लगन से काम करते रहे। कुछ समय बाद उन्हें मार्केटिंग की जॉब मिल गई, जिसमें वो घर-घर जाकर सामान बेचा करते थे।



उनकी स्किल्स और डेडीकेशन को देखते हुए उन्हें प्रमोट कर दिया गया। इसके बाद साल 2007 में थॉमस की मुलाकात एलेक्जेंड्रा से हुई। कुछ समय साथ बिताने के बाद दोनों विवाह के बंधन में बंध गए।

 

 

इस दौरान उनके जीवन में एक नया मोड़ आया। थौमस की पत्नी भारतीय चाय की बेहद शौकीन थीं। इससे रूपेश को चाय के बिजनेस का आइडिया आया। इतने वर्षों में जो पैसा रुपेश ने सुरक्षित किया था, उसे निवेश कर उन्होंने इंग्लैड में चाय के व्यापार की शुरुआत की।

 

 


Advertisement

धीरे-धीरे रुपेश ने अपनी मेहनत से अपने प्रॉडक्ट को एक लोकप्रिय ब्रैंड बना दिया। आज उनके ब्रैंड की लोकप्रियता इस कदर बढ़ चुकी है कि उनकी चाय की सप्लाई इंग्लैड के सबसे लग्जरी डिपार्टमेंटल स्टोर हार्वे निकोल्स में हो रही है।

आपके विचार


  • Advertisement