भारतीय छात्र ने बनाया कार्डबोर्ड इनक्यूबेटर, अब बचेगी लाखों बच्चों की जान।

author image
Updated on 10 Dec, 2015 at 5:35 pm

Advertisement

एक भारतीय छात्र ने ऐसे कार्डबोर्ड (गत्ता) इनक्यूबेटर को विकसित किया है, जिसकी लागत बहुत ही कम है। इस इनक्यूबेटर की वजह से अब उन लाखों नवजात शिशुओं की जानें बचाई जा सकेंगी, जिनकी मृत्यु प्रसव के समय या जन्म के कुछ हफ्तों में हो जाती है। यह इनक्यूबेटर भारत और उन देशों के लिए काफ़ी प्रभावी है, जिनका चिकित्सा के क्षेत्र में बुनियादी ढ़ाचा जमीनी स्तर पर कमज़ोर है।

यह कारनामा भारत के मालव सांघवी ने कर दिखाया है। मालव सांघवी लंदन के ‘इंपीरीयल कॉलेज लंदन एंड रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट’ से ‘इनोवेशन डिज़ाइन इंजिनियरिंग (आइड)’ की पढ़ाई कर रहे हैं। सांघवी को लंदन के सेंट जेम्स पैलेस में आयोजित एक प्रतियोगिता में, अपने इस “बेबी लाइफ बॉक्स” के अविष्कार के लिए तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

सांघवी कहते हैं की,

” बेबी लाइफ बॉक्स एक कम लागत वाला इनक्यूबेटर है। जो बुनियादी तौर पर नवजात शिशुओं की देखभाल प्रदान करेगा। भारत में ही सालाना 300,000 से अधिक नवजातो की मृत्यु 24 घंटे के भीतर हो जाती है जो दुनिया में सबसे ज़्यादा है ।”


Advertisement

नॅशनल इन्स्टिट्यूट ऑफ डिज़ाइन (एनआइडी) अहमदाबाद से स्नातक, सांघवी, कार्डबोर्ड इनक्यूबेटर की व्याख्या करते हुए कहते हैं की:-

“हमने प्रारंभिक रिसर्च में पाया कि भारत की स्वास्थ्य सेवा एक मानक रूप से अपने उप-केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रसूति संबंधित सुविधाएं तो प्रदान करता है, लेकिन नवजात शिशुओं की देखभाल के लिए सुविधाओं का अभाव है। “

इसे बनाने का विचार उनको तब आया, जब एक साल पहले उनकी भतीजी को ज़िन्दी रखने के लिए इनक्यूबेटर मशीन में रखा गया था।

Advertisement
Tags

आपके विचार


  • Advertisement