शेरलॉक होम्स से भी सयाने थे ये 8 देसी जासूसी पात्र

author image
3:15 pm 5 Dec, 2015

Advertisement

फिक्शनल उपन्यासों में जासूसी किरदारों का जिक्र अक्सर होता रहा है। डिजिटलाइजेशन के फैलाव के साथ इन डिटेक्टिव कैरेक्टर्स ने बड़े और छोटे पर्दों पर भी अपनी ख़ास जगह बना ली। वेस्टर्न वर्ल्ड के शेरलॉक होम्स का जासूसी किरदार लोगों के जेहन में अभी तक बरकरार है।

हर कोई जानता है की बड़ी सी हैट और मुंह में सिगार दबाये मिस्टर होम्स की स्मार्ट ऑब्जरवेशन स्किल के सामने कोई भी अपराधी ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता।

आजकल गैजेट्स और टेक्नोलॉजी से लैस डिटेक्टिव सीरियल्स की टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री में खासी बहार है, लेकिन नाइंटीज के दशक के किरदारों की बात कुछ निराली ही थी।

ये पात्र स्मार्टनेस में शेरलॉक होम्स और जेम्स बांड से भी ज्यादा सयाने थे। कैसे ? आइये आपको मिलवाते हैं नाइंटीज के 8 जबरदस्त देसी जासूसी पात्रों से।


Advertisement

1. व्योमकेश बक्शी

भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय यह बंगाली जासूस ‘शरदेंदु बंदोपाध्याय’ के मस्तिष्क की उपज है। बड़े ही सीधे-साधे धोती-कुरते में दिखने वाले बक्शी अपराधी को देखते ही पहचानने कि काबिलियत रखते हैं। यह अलग बात है कि दिबाकर बनर्जी के बक्शी (सुशांत राजपूत) दर्शकों के दिल में ज्यादा नहीं उतर पाए।

2. फेलुदा

लम्बी डील डौल के फेलु ‘दा’ का असली नाम प्रदोष चन्द्र मित्रा है, पर अमूमन ये “फेलु” के नाम से जाने जाते हैं। फेलु ‘दा’ भारत रत्न से सम्मानित महान फिल्म निर्देशक सत्यजीत रे के द्वारा रचे गए जासूस हैं।

3. सैम डि’सिल्वा’

शेखर कपूर और करन राजदान द्वारा निर्देशित टीवी सीरियल “तहकीकात” में सैम डिसिल्वा का किरदार विजय आनंद ने निभाया है। सैम और उनके असिस्टेंट गोपी (सौरभ शुक्ला) रोमांच और हास्य की कैमेस्ट्री में अपराधी और दर्शकों को फांस लेते हैं।

4. एसीपी प्रद्युमन

सोनी टीवी पर प्रसारित टीवी सीरीज सी.आई.डी.पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला क्राइम शो है। एसीपी प्रद्युमन और उनकी टीम CID के लिए काम करते हैं। तेज दिमाग के प्रद्युमन के नाम से बड़े-बड़े अपराधी खौफ खाते हैं। ACP प्रद्युमन और उनकी टीम हर केस सॉल्व करने के बाद अपराधी को ‘फांसी’ जरूर दिलाते हैं, वो भी ये जानते हुए की फांसी रेयरेस्ट ऑफ़ रेयर केस में ही मिलती है।



5. काकाबाबू

काकाबाबू एक बंगाली इतिहासकार और जासूस हैं। इस पात्र की रचना की थी सुनील गंगोपाध्याय ने। यह भले ही विकलांग हैं, लेकिन रोमान्च में उनका कोई सानी नहीं है। काकाबाबू सीबीआई के लिए काम भी कर चुके हैं। काकाबाबू अन्य जासूसों की तरह मर्डर और रॉबरी के बजाय रोमान्चक मिशनों में जाना ज्यादा पसंद करते हैं। उन्हें उस समय का बियर ग्रिल्स भी कहा जा सकता है।

6. इंस्पेक्टर भारत

90 के दशक में दूरदर्शन में प्रसारित होने वाले थ्रिलर शो “सुराग -द क्लू” में क्राइम इंस्पेक्टर भारत का किरदार सुदेश बेरी ने निभाया है। कितना भी शातिर अपराधी क्यों न हो, ‘इंस्पेक्टर भारत’ की नज़रों से नहीं बच सकता।

7. करमचंद

करमचंद डीडी नेशनल में प्रसारित होने वाले सबसे पहले डिटेक्टिव हैं। करमचंद का रोल पंकज कपूर ने निभाया है। करमचंद अपनी अस्सिस्टेंट किटी के साथ क्रिमिनल्स के क्राइम को ढूंढते देखे जा सकते थे। बाकी पुराने ट्रेडीशनल जासूसों की तरह करमचंद भी कुछ ख़ास आदतों जैसे शतरंज खेलना और ‘दिमाग की बत्ती’ जलाए रखने के लिए तम्बाकू का सेवन करते हैं।

8. एजेंट विनोद

1977 में प्रदर्शित फिल्म “एजेंट विनोद” में महेंद्र संधू ने भारत के सीक्रेट एजेंट कि भूमिका निभाई थी, जिसे दर्शकों ने सराहा। एजेंट विनोद ने पहली बार दुनिया को बताया की MI-6 के जेम्स बांड के अलावा भी कोई कांटिनेंटल जासूस है, जो अपने देश (भारत) की हिफाजत के लिए जासूसी करता है। 2012 में भी दोबारा निर्मित “एजेंट विनोद”में मुख्य भूमिका सैफ अली खान ने निभायी थी।

sinemadafilmizlee

sinemadafilmizlee


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement