IIM लखनऊ से पढ़े अविनाश ने निभाई ट्रम्प की जीत में अहम भूमिका

author image
Updated on 10 Nov, 2016 at 9:14 pm

Advertisement

अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव में हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ जीत दर्ज करने वाले डोनाल्ड ट्रंप की जीत के पीछे भारत के अविनाश इरागावारापू का बड़ा हाथ है।

लखनऊ के IIM से पढ़े 30 साल के अविनाश ने ट्रंप की चुनावी टीम में बतौर स्टेट चीफ कैम्पेनर के रूप  में ट्रम्प के जीत में अहम भूमिका अदा की।

बतौर अविनाश चुनाव से महज 45 दिन पहले ट्रम्प के हारने की स्थिति बन रही थी और लग रहा था कि हिलेरी क्लिंटन इस राष्ट्रपति पद के चुनाव में बाजी मार जाएंगी, लेकिन तभी एक आपात मीटिंग के दौरान अविनाश ने ट्रम्प की सरकार को जीत के कई मूल मंत्र दिए।


Advertisement

इनमें से सबसे अहम था अमेरिका में रह रहे भारतीयों के वोट्स को अपनी ओर करना। ऐसे में रणनीति तैयार कर ट्रम्प को ‘मोदी मंत्र’ यानी कि ‘अबकी बार ट्रम्प सरकार’ का नारा दिया गया। यह नारा मीटिंग में मौजूद सदस्य शलभ कुमार की ओर से दिया गया, जिसे रणनीति के तहत चुनाव प्रचार में भुनाया गया। कई साल से अमेरिका में रह रहे शलभ कुमार मूल रूप से हरियाणा के हैं।

trump3

डोनाल्ड ट्रम्प के साथ शलभ कुमार (दाएं) dainikbhaskar

ट्रम्प को जीत दिलाने में 12 हजार लोगों की टीम सुबह 5-6 बजे से रात 3-4 बजे तक काम करती थी। अविनाश अमेरिकन स्टेट एरिजोना में ट्रम्प की पार्टी के मुख्य प्रचारक और कोर टीम के रणनीतिकार भी हैं।

trump

डोनाल्ड ट्रम्प के साथ अविनाश इरागावारापू (दाएं) dainikbhaskar

नई रणनीति के तहत चुनावी टीम का फोकस में बदलाव को लेकर अविनाश, सूत्र को बताते है:

“नई स्ट्रैटजी में टीम का पूरा फोकस चेंज हो गया था। पहले हम ट्रम्प की क्वालिटी और उनके प्रेसिडेंट बनने से अमेरिका को होने वाले फायदे को सेल कर रहे थे। सितंबर में बनी नई स्ट्रैटजी में हिलेरी के प्रेसिडेंट बनने से होने वाले नुकसान और उनकी कमियों को वोटर्स के सामने रखने का प्लान बनाया गया। इस प्लान पर सुबह 6 बजे से रात 3 बजे तक 20 से 22 घंटे काम किया।”

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement