अमेरिका से 4800 करोड़ में 145 हॉवित्जर तोप खरीदेगा भारत

author image
Updated on 16 Feb, 2016 at 1:52 pm

Advertisement

भारत को जल्दी ही अमेरिका से 145 हॉवित्जर अल्ट्रा लाइट तोपें मिलने जा रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत और अमेरिका के बीच होने वाली यह डील इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि ये तोपें तीन साल के अंदर भारत में ही तैयार की जाएंगी।

हालांकि, इनकी पहली खेप भारत को सीधे तौर पर भेजी जाएगी। फाइनल कान्ट्रेक्ट अगले 180 दिनों में हो जाएगा।

भारत इस तरह की तोप पिछले 30 साल में पहली बार खरीद रहा है। इससे पहले भारत ने स्वीडन से बोफोर्स तोपें खरीदी थीं। इस डील में कमीशन को लेकर काफी विवाद हुआ था।

इस घटना के बाद भारत और अमेरिका में तोपों को लेकर बातचीत तो हुई थी, लेकिन किसी फैसले पर नहीं पहुंचा जा सका था।

दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पेंटागन ने हॉवित्जर तोपों से संबंधित डील का लेटर इंडियन डिफेंस मिनिस्ट्री को भेज दिया है।

भारत के लिए यह डील इसलिए अहम है, क्योंकि हाल ही में अमेरिका ने पाकिस्तान को आठ एफ-16 फाइटर जेट्स बेचने का फैसला किया है। भारत ने इस प्रस्तावित डील पर नाराजगी जताई है। इसके बाद ही अमेरिका ने भारत को यह हॉवित्जर तोपें देने का फैसला किया है।


Advertisement

इस रिपोर्ट के मुताबिक, डील का 30 फीसदी हिस्सा भारत में इन्वेस्ट किया जाएगा। इस डील पर वर्ष 2006 में बातचीत शुरू हुई थी।

हॉवित्जर तोपें दूसरी तोपों के मुकाबले काफी हल्की हैं और यह 25 किलोमीटर दूर तक निशाने पर हमला कर सकती है। इसे बनाने में टाइटेनियम का इस्तेमाल किया गया है, जो इसे बेहद हल्का बनाता है।

भारत इन तोपों को चीन से लगी सीमा पर तैनात करना चाहता है।

भारत सरकार अपनी सेना के लिए 2027 तक मॉर्डनाइजेशन प्रोग्राम चला रही है। इस पर एक लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement