देश में बनेंगे 10 नए न्यूक्लियर रिएक्टर्स, 7000 मेगावाट बिजली पैदा होगी

author image
Updated on 18 May, 2017 at 2:29 pm

Advertisement

देश के एक बड़ा हिस्सा बिजली की कमी की समस्या से जूझ रहा है। देश में बिजली की कमी को खत्म करने के लिए मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने देश में परमाणु ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 10 स्वदेशी परमाणु रिएक्टरों के निर्माण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

यह पहला ऐसा मौका है जब इतनी संख्या में न्यूक्लियर रिएक्टर्स के निर्माण को एक साथ मंजूरी मिली है।

इस परियोजना के तहत प्रत्येक रिएक्टर की क्षमता 700 मेगावाट होगी। इस तरह से कुल 10 इकाइयों की क्षमता 7000 मेगावाट होगी। इससे देश की परमाणु उर्जा उत्पादन क्षमता विकसित होगी। ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने बताया:

“इन रिएक्टर्स के जरिए 7000 मेगावाट बिजली पैदा की जाएगी। ये क्लीन एनर्जी पैदा करने में मदद करेगा।”

nuclear


Advertisement

ये 10 न्यूक्लियर रिएक्टर्स माही बांसावाड़ा (राजस्थान), चुटका (मध्य प्रदेश), कैगा (कर्नाटक) और गोरखपुर (हरियाणा) में बनाए जाएंगे।

अभी वर्तमान में भारत में 22 न्यूक्लियर पॉवर प्लांट हैं। इनसे अभी 6780 मेगावाट बिजली पैदा की जा रही है। वहीं, एक और 6700 मेगावाट के परमाणु ऊर्जा परियोजना पर काम चल रहा है। इस योजना के साल 2021-22 तक पूरे होने का अनुमान है।



पूरी तरह देश में बनने वाले ये नए 10 न्यूक्लियर पॉवर प्लांट लोगों के लिए नौकरी के अवसर भी लेकर आ रहे हैं। इस प्रोजेक्ट के जरिए प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 33,400 से अधिक नौकरियां पैदा होंगी।

करीबन 70 हजार करोड़ की लागत से बनने वाले इस प्रोजेक्ट से देश के परमाणु उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। इसके जरिए न्यूक्लियर पॉवर सेक्टर को उद्योग की हाईएंड टेक्नोलॉजी के साथ लिंक किया जाएगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement