टैंक खराब होने से सेना को लगा झटका, अंतरराष्ट्रीय सैन्य प्रतियोगिता से बाहर हुआ भारत

author image
Updated on 13 Aug, 2017 at 1:57 pm

Advertisement

लड़ाकू टैंक टी-90 में तकनीकी खराबी आने की वजह से भारतीय सेना की टीम रूस में आयोजित ‘अंतरराष्ट्रीय टैंक बैथलॉन 2017’ से बाहर हो गई है।

रूस की राजधानी मॉस्को स्थित अलाबीनो रेंज में चल रही इस टैंकों की रेस में भारत और चीन सहित 19 देशों ने भाग लिया।

भारत इस प्रतियोगिता में दो टी-90एस टैंक के साथ उतरा था, लेकिन दोनों की अचानक खराब हो गए और भारतीय सेना इस प्रतियोगिता से बाहर हो गई। इन टैंकों में इंजन के खराब होने की बात कही जा रही है। इन टैंकों ने शुरुआती राउंड में शानदार प्रदर्शन किया था।

अब इस प्रतियोगिता के फाइनल मुकाबले में रूस, चीन, बेलारूस और कजाखस्तान के युद्धक वाहन आपस में भिड़ेंगे।

भारत ने टी-90एस टैंकों को रूस से 2001 में खरीदा था। इन टैंकों को ‘भीष्म’ के नाम से भी जाना जाता है। अब इन टैंकों को भारत में ही बनाया जा रहा है। सेना के पास इस समय 800 टी-90एस टैंक हैं।


Advertisement

tank

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हुई इस प्रतियोगिता में शामिल होने वाले देश अपने युद्धक वाहनों के जरिए अपनी देश की सैन्य ताकत का प्रदर्शन करते हैं। ऐसे में भारतीय सेना के सबसे भरोसेमंद टैंकों का इस तरह से फेल हो जाना बड़ा झटका है, क्योंकि युद्ध के हालात में इन टैंकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement