अग्नि-V की जद में होगा पूरा चीन, परीक्षण जल्द

author image
Updated on 14 Dec, 2016 at 3:50 pm

Advertisement

भारत जल्द ही अपने इंटरकॉन्टिनेंटल बलिस्टिक मिसाइल (ICBM) अग्नि-V का परीक्षण करने की तैयारी करने जा रहा है। इस मिसाइल की खासियत यह है कि यह एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक वार कर सकता है। इसकी रेन्ज में 5 हजार से साढ़े 5 हजार किलोमीटर तक का क्षेत्र है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, अग्नि-V के परीक्षण की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। इसका परीक्षण ओडिशा के वीलर आइलैन्ड पर किया जाएगा। माना जा रहा है कि इस मिसाइल की जद में चीन का अंतिम छोड़ होगा। यही वजह है कि इस परीक्षण को रणनीतिक तौर पर बेहद अहम माना जा रहा है।


Advertisement

50 टन वजनी अग्नि-V का अंतिम बार परीक्षण दो साल पहले वर्ष 2013 के जनवरी महीने में किया गया था। अग्नि-V की खासियत यह है कि इसे लॉन्चर ट्रक पर रखकर दागा जा सकता है, जो इसे बेहद खतरनाक बना देती है। इसी खासियत की वजह से इसे कहीं भी ले जाकर फायर किया जा सकता है।

अग्नि-V के तैयार हो जाने के बाद भारत उन देशों के क्लब में शामिल हो जाएगा, जिनके पास आईसीबीएम मिसाइलों की क्षमता है। इन देशों में अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देश शामिल हैं।

भारत ने पहले से अग्नि-I, अग्नि-II, अग्नि-III मिसाइल सेना को सौंपा रखा है। इन मिसाइलों के जरिए पाकिस्तान की नापाक हरकतों को जवाब दिया जा सकता है। वहीं, अग्नि-IV और अग्नि-V जैसे मिसाइल चीन के खिलाफ रणनीतिक बढ़त हासिल करने में मददगार हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement