इन दर्दनाक तस्वीरों पर लिखी चन्द पंक्तियाँ आपकी आँखें नम कर देंगी

author image
Updated on 12 Apr, 2016 at 2:51 pm

Advertisement

विभाजन या बंटवारा किसी देश, भूमि या सीमा का नहीं होता। बंटवारा लोगों की भावनाओं का हो जाता है। अपनों को खोना, बेसहारा-बेघर भटकना, खौफ, आंखों में कैद अनगिनत दुखों के गुबार, सन्नाटा, खून और सिर्फ इंतज़ार। आजादी की कीमत इतनी बड़ी होगी, शायद किसी ने नही सोचा होगा। उस वक़्त को शब्द देना किसी पीड़ा के अहसास से गुज़रने की तरह है।फिर भी मैने भारत-पाकिस्तान के बँटवारे के दौर की  इन तस्वीरों को आवाज़ देने की कोशिश की है की ये अपना दर्द बयाँ कर सके।

1

 

2

 


Advertisement

 

3

 

4

 

5

 

6

 

7

 



8

 

9

 

10

 

11

 

12

 

13

 

14


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement