Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

भारत की संस्कृति और संघ की विरासत से सजी है यह ‘विदेशी धरती’

Updated on 10 February, 2017 at 12:44 pm By

इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारतीय संस्कृति को विश्व की अत्यन्त प्राचीन और श्रेष्ठ संस्कृति का दर्ज़ा दिया गया है। भारतीय संस्कृति लौकिकता, अधिभौतिकता और भोगवाद की बजाय आध्यात्मवाद और आत्मतत्व की भावना पर केन्द्रित है। यही कारण है सुदूर देश भी भारतीय संस्कृति से प्रभावित हुए बिना नही रह पाते हैं।

तो चलिए आज हम म्यांमार या बर्मा के उस अनोखे गांव के बारे में बताते हैं, जिसे ‘मिनी इंडिया’ के नाम से भी पहचाना जाता है

म्यांमार का ज़ेरावरी गांव, जहां दिखती है भारतीय संस्कृति की बेमिसाल तस्वीर


Advertisement

म्यांमार की राजधानी नैप्यीदा से करीब 150 किलोमीटर दूर बसा ज़ेरावरी गांव अपनी प्राकृतिक सुंदरता से कहीं ज़्यादा भारतीय संस्कृति की अनोखी खूबसूरती के लिए पहचाना जाता है। यहां के स्कूल में पढ़ रहे कुल छात्रों में पचास फीसदी से ज़्यादा छात्र मूलरूप से भारतीय हैं। इतना ही नही ज़ेरावरी स्कूल के प्रधानाचार्य जयप्रकाश के मुताबिक इस पाठशाला के निर्माण में मदद की भागीदारी प्रमुख रूप से भारतीयों की रही है।

हिन्दी की पाठशाला

म्यांमार को भारत की ही तरह वर्ष 1948 में आज़ादी मिली थी। इसके बाद वहां के स्कूलों में बर्मी भाषा अनिवार्य कर दिया गया था, लेकिन भारतीय विरासत से प्रभावित ज़ेरावरी गांव के स्कूल में बर्मी और अँग्रेज़ी के साथ हिन्दी भाषा भी सिखाई जाती है। हालांकि इनमें से अधिकांश छात्रों को भारत आने का अवसर प्राप्त नहीं हो सका है, लेकिन बॉलीवुड फ़िल्मो में इनकी रुचि बहुत कुछ बयां करता है। साथ ही हिन्दी भाषा पर इनकी अच्छी पकड़ है।  ज़ेरावरी माध्यमिक स्कूल के प्रधानाध्यापक जयप्रकाश बताते हैंः



“छात्रों को हिन्दी पाठ्यपुस्तक के अलावा उपलब्ध धार्मिक पुस्तकों जैसे रामायण गीता आदि का अध्ययन कराया जाता है, ताकि वो भारत की विरासत के साथ अपने धर्म को भी जान सकें।”

ज़ेरावरी में सनातन धर्म की जड़ें मजबूत करती राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाएं

सनातन धर्म के प्रचार-प्रसार और चरित्र निर्माण के लिए ज़ेरावरी गांव में भारतीय सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का भगवा झंडा एक विरासत की तरह है। बताया जाता है कि ज़ेरावरी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ‘हिंदू संस्कृति विकास केंद्र’ नाम की शाखा की स्थापना 1958 में रामप्रकाश धीर ने की थी। इन शाखा में रोजाना एक घंटे की कक्षा का संचालन किया जाता है, जिनमें हिन्दी भाषा के साथ साथ भारतीय संस्कृति का पाठ किया जाता है। साथ ही यहां विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

बर्मी लिबास में भारतीय संस्कृति के रंग

मिनी इंडिया नाम से पहचाने जाने वाला ज़ेरावरी गांव भारतीय संस्कृति के आध्यात्मवाद के लिए भी जाना जाता है। यहां स्थित हिंदू देवी देवताओं के मंदिर धार्मिक शांति प्रदान करते हैं। यही नहीं, अगर किसी दूसरे देश में आप भारतीय विरासत के आत्मतत्व का आनंद उठना चाहते हैं, तो बर्मी भेषभूषा में हिन्दी, बिहारी, भोजपुरी बोलते यहां के स्थानीय लोगों से मिलिए।


Advertisement

यकीन मानिए ज़ेरावरी के छोटे मोटे ढाबों में अगर कहीं आपको समोसे और चटनी का स्वाद लेने का मौका मिल गया तो आप म्यांमार के इस छोटे से भारत में भी बिहार और उत्तर प्रदेश के चटखपन का लुत्फ उठा सकते हैं

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Travel

नेट पर पॉप्युलर