70,000 करोड़ की लागत से भारत बनाने जा रहा 6 घातक सबमरीन, जद में होंगे चीन-पाक

author image
5:25 pm 25 Jul, 2017

Advertisement

पड़ोसी मुल्क चीन और पाकिस्तान से लगातार बढ़ते गतिरोध और तनातनी के बीच मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। भारत सरकार अपनी नौसेना को आधुनिक सैन्य उपकरणों और हथियारों से लैस करने के साथ ही समुद्री सीमा को भी अभेद्य बनाने की दिशा में तेजी से काम कर रही है।

भारत ने 6 देशों के साथ मिलकर समुद्र के अंदर सुरक्षा के लिए सबसे बड़े सौदे की पहल कर दी है। इस डील के तहत भारत 70 हजार करोड़ की लागत से 6 एडवांस्ड स्टेल्थ पनडुब्बियाों का निर्माण करेगा।

इस प्रोजेक्ट को ‘प्रोजेक्ट-75’ नाम दिया गया है, जिसके तहत भारतीय शिपयार्ड कंपनी सबमरीन बनाने में महारत हासिल करने वाले देशों के साथ मिलकर सबमरीन का निर्माण करेगी। इस भारी-भरकम डील पर फ्रांस, जर्मनी, रूस, स्वीडन, जापान और स्पेन की कंपनियों की नज़र है।

आपको बता दें कि इस प्रॉजेक्ट को 2007 में ही मंजूरी मिल गई थी, लेकिन तब से यह फाइलों में ही बंद पड़ा रहा। अब आखिरकार 10 साल बाद इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया गया है।

रक्षा मंत्रालय से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि सबसे पहले फ्रांस, जर्मनी, रूस, स्पेन, स्वीडन और जापान की कंपनियों को भारतीय रक्षा मंत्रालय द्वारा उन्हें जारी किए गए RFI (रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन) का 15 सितंबर तक जवाब देना होगा। इस डील को ‘मदर ऑफ ऑल अंडरवॉटर डील्स’ भी कहा जा रहा है।


Advertisement

भारत जिन छह सबमरीन का निर्माण करने जा रहा है, वो दुनिया की सबसे खतरनाक सबमरीन्स में से एक होंगी। यह चीन और पाकिस्तान पर लक्ष्य भेदने में भी सक्षम होंगी। भारतीय नौसेना की ताकत बढ़ाने की दिशा में इस प्रॉजेक्ट को ‘मील का पत्थर’ माना जा रहा है।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement