वर्ष 2017 तथा 2018 में भारतीय इकोनॉमी होगी दुनिया की सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्थाः IMF

author image
Updated on 17 Jan, 2017 at 9:49 pm

Advertisement

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने वर्ष 2016 के लिए भारत की अनुमानित वृद्धि दर को 7.6 फीसदी से घटाकर 6.6 फीसदी कर दिया है। सोमवार को जारी की गई इस रिपोर्ट में वर्ष 2017 के लिए भारत की वृद्धि दर को 0.4 फीसदी कम कर दिया गया है। इसके पीछे वजह नोटबंदी के कारण नकदी संकट को बताया गया है।

आईएमएफ की इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद कांग्रेस पार्टी केन्द्र सरकार पर हमलावर हो गई है। पार्टी का कहना है कि अर्थशास्त्री तथा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पहले ही इस तरह की आशंका जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि नोटबंदी की वजह से नकदी संकट उत्पन्न होगा और इससे अर्थव्यवस्था के विकास की दर थम जाएगी।


Advertisement

हालांकि, लगता है कि पार्टी ने आरोपों की जल्दबाजी में आईएमएफ की इस रिपोर्ट को पढ़ा नहीं। इस रिपोर्ट में कुछ ऐसा कहा गया है, जिससे कांग्रेस पार्टी को केन्द्र सरकार विरोधी अभियान में बदलाव करना होगा।

दरअसल, इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2017 और वर्ष 2018 में भारत की विकास दर चीन के मुकाबले कहीं अधिक तेज होगी। वर्ष 2017 में भारत का आर्थिक वृद्धि दर 7.2 फीसदी होगा, वहीं देश वर्ष 2018 में 7.7 फीसदी की वृद्धि दर हासिल कर लेगा। जहां तक चीन की बात है तो इसका विकास दर इन दो सालों के लिए क्रमशः 6.5 फीसदी तथा 6.0 फीसदी होगा। वहीं, वैश्विक विकास की वृद्धि दर 3.1 फीसदी रखी गई है।

साथ ही इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था का विकास दर आईएमएफ के अनुमान से भी अधिक हो सकता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement