Advertisement

भारत से चीनी कर्मचारी लौट रहे हैं अपने देश, डोकलाम विवाद का असर

4:51 pm 28 Aug, 2017

Advertisement

डोकलाम में चल रहे भारत-चीन सैन्य विवाद के बीच यहां काम कर रहे अब तक 4 सौ से अधिक चीनी कर्मचारी स्वदेश लौट चुके हैं। कर्मचारियों का यह आंकड़ा ओपो और वीवो से जुड़ा हुआ है। बताया गया है कि डोकलाम में दोनों देशों के बीच जारी तनाव की वजह से इन दोनों मोबाइल निर्माता कंपनियों की बिक्री में भारी गिरावट देखी गई है। यही वजह है कि इन कंपनियों ने अपने नागरिकों को स्वदेश लौटने के लिए कह दिया है।

इसी महीने ओपो के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर विवेक झांग चीन लौट गए थे। भारत में काम कर रहे चीनियों में उन्हें सबसे हाई प्रोफाइल व्यक्ति समझा जाता रहा है। विवेक झांग ने आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप की डील की बातचीत में अग्रणी भूमिका निभाई थी और इस पर साइन भी किया था।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि जुलाई व अगस्त महीनों के दौरान ओपो व वीवो की बिक्री में क्रमशः 30 फीसदी की गिरावट देखी गई है। यही वजह है कि बड़ी संख्या में चीनी कर्मचारियों को स्वदेश लौट जाने के लिए कहा गया है। इस वजह नॉन पर्फामेन्स बतायी गई है।


Advertisement

चीन विरोधी भावों की वजह से दोनों कंपनियां अपने प्रबंधन में बदलाव करने में जुटी हुई है। बताया गया है कि हिन्दी प्रदेशों के अलावा छत्तीसगढ़ व ओडिशा में चीन का विरोध कुछ अधिक है। इसके अलावा महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में भी चीनी प्रॉडक्ट्स का विरोध हो रहा है। यही वजह है कि इन दोनों कंपनियों ने उपरोक्त लिखे राज्यों से अपने कर्मचारियों को बुलाया है।

इसके अलावा एक कारण और बताया गया है कि चीन के नागरिकों को भारत में कम अवधि का वीजा मिल रहा है। वैसे उम्मीद की जा रही है कि डोकलाम में जारी विवाद के खत्म होने पर स्थिति सामान्य हो सकेगी।

इस संबंध में अब तक न तो ओपो का और न ही वीवो का कोई बयान या प्रतिक्रिया आई है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement