इन पांच बडे मसलों पर भारत और चीन के बीच बढ़ा है तनाव

author image
Updated on 6 Apr, 2017 at 7:37 pm

Advertisement

हाल के दिनों में भारत और चीन के बीच विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चीन की तरफ से धमकियों का दौर जारी है, वहीं भारत ने भी साफ शब्दों में कहा है कि चीन को भारत के अंदरुनी मसलों में दखल देने की जरूरत नहीं है। हालिया विवाद तिब्बत के सर्वमान्य बौद्ध गुरु दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश के दौरे को लेकर हुआ है। चीन का कहना है कि दलाई लामा के अरुणाचल दौरे से सीमा पर तनाव बढ़ सकता है। सिर्फ दलाई लामा के दौरे का मसला ही नहीं, इन पांच बड़े मसलों की वजह से भारत और चीन आमने-सामने हैं।

1. पाक अधीकृत कश्मीर में CPEC

पाकिस्तान अधीकृत कश्मीर में बन रहे चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरोडोर को लेकर भारत लंबे समय से ऐतराज जताता रहा है। भारत ने गिलगित-बालटिस्तान से गुजरने वाले इस आर्थिक गलियारे को अवैध करार दिया है। यह इलाका भारत का है और इसे पाकिस्तान के अवैध कब्जे से छुड़ाने का ऐलान किया जा चुका है। यहां चीन 54 बिलियन डॉलर का निवेश कर रहा है और किसी कीमत पर इस परियोजना को पूरा करना चाहता है।

2. NSG और UNSC में भारत की सदस्यता मसला

भारत NSG और UNSC में सदस्या के लिए एंड़ी-चोटी का जोड़ लगाए हुए है। हालांकि, चीन हरसंभव प्रयास कर रहा है कि भारत को सदस्यता हासिल नहीं हो सके। विदेश नीति के मोर्चे पर दोनों देशों के बीच स्पस्ट तनाव है।

3. आतंकियों को बचा रहा है चीन


Advertisement

भारत चाहता है कि मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड आतंकी सरगना अजहर मसूद और हाफिज सईद पर संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध लगाए, लेकिन चीन यहां भी अडंगा लगा रहा है। चीन सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य है और उसके पास वीटो पावर है, इस नाते वह लगातार भारत को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहा है।

4. सीमा विवाद

भारत और चीन के बीच लगभग 6 दशक से सीमा विवाद बना हुआ है। चीन की सेना सीमा पर भारत के इलाके में जब-तब घुसती रही हैं, और इससे तनाव बढ़ता रहा है। दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने की तमाम कोशिशों को सफलता नहीं मिली है। चीन ने अक्साईचिन पर कब्जा कर रखा है, जो भारत का भूभाग है।

5. दक्षिण चीन सागर का विवाद

भारत ने दक्षिण चीन सागर में चीन की दादागिरी के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद कर रखी है। भारत का मानना है कि दक्षिण चीन सागर में चीन की आक्रामक नीति की वजह से इस क्षेत्र में सहयोगी देशों के साथ उसके व्यापारिक हितों को ठेस पहुंच सकती है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement