भारत ने पाकिस्तान को हराकर जीता एशियन हॉकी का खिताब, भारतीय जवानों के बलिदान को समर्पित जीत

author image
Updated on 31 Oct, 2016 at 1:24 pm

Advertisement

भारत ने एशियन चैम्पियंस ट्रॉफी में शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए दिवाली के दिन देश को जीत का शानदार तोहफा दिया। ये जीत इसलिए भी खास है, क्योंकि भारतीय हॉकी टीम ने यह जीत अपने चीर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान को मात दे हासिल की है।

मलेशिया में एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी के फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को 3-2 से मात दी।

India hockey

भारत की तरफ से रुपिंदर पाल सिंह, अफ्फान यूसुफ और निकिन थिमैया ने गोल दागे। रुपिंदर ने मैच के 18वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर पर गोल कर भारत को बढ़त दिलाई। 23वें मिनट में दूसरा गोल अफान यूसुफ ने किया। पहला क्वार्टर भारत के नाम रहा।

Indian hockey


Advertisement

पहले हाफ में बढ़त ले चुकी भारतीय टीम की पकड़ दूसरे हाफ में थोड़ी कमजोर नजर आई। पाकिस्तान ने इसका फायदा उठाया। दूसरे क्वार्टर में अलीम बिलाल ने पेनाल्टी को गोल में तब्दील कर पाकिस्तान का स्कोर 1-2 कर लिया। वहीं, पाकिस्तान के ही अली शान ने मैच के 38वें मिनट में बेहतरीन फील्ड गोल कर पाकिस्तान को 2-2 से बराबरी पर ला दिया।

निर्णायक क्वार्टर में भारत के निकिन थमैय्या ने तीसरा गोल कर भारत को 3-2 की बढ़त दिला दी। इसके बाद भारत की टीम ने अपने प्रतिद्वंद्वी को मैच में वापसी करने का कोई मौका नहीं दिया।

Indian hockey

टूर्नामेंट में 11 गोल करने वाले रुपिंदर पाल सिंह को ‘प्लेयरऑफ द टूर्नामेंट’ चुना गया।  इस पूरी प्रतियोगिता में भारतीय टीम ने अपने सारे मैचों में विजय हासिल की। भारत का केवल एक मैच लीग चरण में दक्षिण कोरिया के खिलाफ बराबरी पर ख़त्म हुआ था।

चोट के कारण टीम से बाहर हुए कप्तान पीआर श्रीजेश की अनुपस्थिति के बावजूद भारतीय टीम ने जबर्दस्त प्रदर्शन दिखाते हुए इस खिताब को अपने नाम किया।

आपको बता दें कि कप्तान पीआर श्रीजेश ने टूर्नामेंट शुरू होने से पहले कहा था कि भारतीय टीम उन भारतीय जवानों के लिए पाकिस्तान को शिकस्त देगी, जिन्होंने सीमा पर देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों का बलिदान दिया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement