इन 12 महत्वपूर्ण घटनाओं ने वर्ष 2016 पर छोड़ी अपनी छाप

author image
Updated on 31 Dec, 2016 at 5:07 pm

Advertisement

वर्ष 2016 का आज अंतिम दिन है। इस साल को खट्टी-मीठी यादों के अलावा उपलब्धियों का साल माना जा सकता है। टॉपयैप्स हिन्दी ने पूरे साल अपने पाठकों को तमाम महत्वपूर्ण घटनाओं के अलावा हर छोटी-बड़ी घटनाक्रमों से अवगत कराया है। साल भर की महत्वपूर्ण घटनाओं की सूची में हमने ऐसी चर्चित घटनाओं को रखा है, जिन्हें न केवल हमेशा याद रखा जाएगा, बल्कि ये घटनाएं वर्ष 2017 को भी प्रभावित करेंगी।

पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन पर आतंकवादी हमला

पठानकोट के एयरफोर्स स्टेशन पर हुए आतंकवादी हमले ने भारत-पाकिस्तान संबंधों की नई इबारत लिखी। 2 जनवरी को पाकिस्तान प्रायोजित इस आतंकवादी हमले में भारत के सात जवान शहीद हो गए, जबकि 6 आतंकियों को मार गिराया गया। इस हमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ था।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

JNU में देश विरोधी नारेबाजी

वर्ष 2016 छात्र राजनीति के हिसाब से बेहद उथल-पुथल वाला रहा। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में देश विरोधी नारेबाजी हुई। कश्मीर में चरमपंथी समूहों के समर्थन में नारेबाजी की गई। वहीं, भारत के टुकड़े-टुकड़े करने का आह्वान किया गया। बाद में इस मामले में आरोपी छात्र नेताओं कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य सहित कई छात्रों को गिरफ्तार कर लिया गया। मामला इतना बढ़ा कि देश भर के अलग-अलग शिक्षण संस्थानों से विरोध के स्वर बुलंद हुए।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

हरियाणा में हिंसक जाट आंदोलन

हरियाणा में आरक्षण की मांग कर रहे जाट समुदाय के लोगों की वजह से हिंसा भड़की। राज्य के 8 संवेदनशील जिलों में धारा 144 लागू कर दिया गया। साथ ही कई स्थानों पर कर्फ्यू भी।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

देश छोड़कर निकल गए कर्जदार विजय माल्या

शराब कारोबारी और बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइन्स के प्रमोटर विजय माल्या देश छोड़कर निकल गए। माल्या पर 17 सरकारी और प्राइवेट बैंकों का करीब 9 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है। माल्या के देश छोड़ने की घटना वर्ष 2016 की एक बड़ी खबर बनी।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

पांच राज्यों से कांग्रेस साफ, असम में भाजपा की बल्ले-बल्ले, ममता के घर जश्न

वर्ष 2016 भारतीय जनता पार्टी के लिए राजनीतिक सौगात लेकर आया। इसी साल भाजपा ने पहली बार पूर्वोत्तर में अपनी सरकार बनाई। असम सरीखा पारंपरिक राज्य कांग्रेस के हाथ से निकल गया और यहां लोगों ने भाजपा को सरकार बनाने का मौका दिया। वहीं, ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में दोबारा सरकार बनाई।


Advertisement

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

हिजबुल आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने पर कश्मीर में बवाल

वर्ष 2016 ने कश्मीर में हिंसा के एक नए दौर को देखा। हिजबुल आतंकवादी कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने पर घाटी में बवाल बढ़ गया। कई महीने तक पुलवामा, अनंतनाग और शोपियां जैसे जिलों में हालात बेकाबू रहे। सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज और यासीन मलिक जैसे कई अलगाववादियों को नजरबंद कर दिया गया।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

500 और 1000 रुपए के नोट बंद, मोदी सरकार का बड़ा फैसला

काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के क्रम में केन्द्र सरकार ने बड़ा फैसला करते हुए 500 और 1000 रुपए के करेन्सी नोट बंद करने का ऐलान कर दिया। 8 नवंबर की मध्य रात्रि से 500 रुपए और 1000 रुपए के करेन्सी नोट को प्रतिबंधित कर दिया गया।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

पश्चिम बंगाल के कई जिले दंगे की चपेट में, जिहादियों का तांडव

पश्चिम बंगाल में मालदा, वीरभूम, उत्तर 24 परगना, नदिया, पश्चिम मिदनापुर, खड़गपुर सहित करीब 10 जिले सांप्रदायिक दंगों की चपेट में आ गए। साल में अंतिम दंगा हावड़ा के धुलागढ़ में हुआ। इस्लामिक कट्टरपंथियों ने जमकर उत्पात मचाया। अलग-अलग घटनाओं में सैकड़ों लोग घायल हुए।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए, कांटे की टक्कर में हिलेरी को लगा झटका

वर्ष 2016 की एक बड़ी खबर अमेरिका से आई। सभी चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों को गलत साबित करते हुए डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति चुन लिए गए। ट्रम्प अपने मुस्लिम विरोधी बयान की वजह से खास चर्चित रहे थे।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

रियो ओलंपिक्स में भारत की बेटियों ने रचा इतिहास

वर्ष 2016 में भारत की बेटियों ने झंडे गाड़े। पी वी सिन्धु, साक्षी मलिक, ललिता बाबर, दीपा कर्मकार जैसी महिला खिलाड़ियों ने भारत का नाम रौशन करते हुए इस बात के संकेत दिए कि आने वाले दिनों बेटियां आगे बढ़ती जाएंगी।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

रियो पैरालंपिक में दिव्यांग खिलाड़ियों ने किया देश का नाम रौशन

सिर्फ ओलंपिक में ही नहीं, भारतीय खिलाड़ियों ने रियो पैरालंपिक खेलों में अपने देश नाम बुलंद किया। रियो पैरालंपिक में जिन भारतीय खिलाडियों ने भारत का नाम रोशन करते हुए पदक जीते, उन्हें केन्द्र सरकार ने पुरस्कृत किया।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

नहीं रहीं तमिलनाडु की ‘आयरन लेडी’ जयललिता

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का जाना भारतीय राजनीति में एक युग का अंत है। करीब 3 महीने तक चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती जयललिता का दिसंबर महीने में देहावसान हो गया।

इस खबर को आप यहां पढ़ सकते हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement