Advertisement

इन 9 उपायों से आप एसिड अटैक के शिकार हुए लोगों की तत्काल मदद कर सकते हैं

7:56 pm 19 Jul, 2017

Advertisement

एसिड अटैक एक अक्षम्य अपराध है। इसके शिकार हुए लोगों को न सिर्फ शारीरिक पीड़ा झेलनी पड़ती है, बल्कि जीवन भर मानसिक तनाव से भी गुज़रना पड़ता है। एसिड सर्वाइवोर्स फाउंडेशन इंडिया के अनुमान के मुताबिक, भारत में हर वर्ष लगभग 100 – 500 एसिड अटैक होते हैं। अगर आप इसके शिकार हुए हैं या आपके आस पास कोई इसका शिकार हुआ है तो सबसे महत्त्वपूर्ण है कि आप तुरंत सक्रिय हों। ऐसा करने से एसिड हमलों के दुष्परिणामों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। एसिड हमले के पीड़ितों की सहायता के लिए निम्नलिखित कदम उठाए जाने चाहिए:

1. सुनिश्चित करें कि पीड़ित के आसपास का क्षेत्र सुरक्षित हो।

2. एसिड अटैक पीड़ितों की मदद करते समय दस्ताने पहनें, यह आपको हानिकारक रसायनों के प्रभाव से सुरक्षित रखेंगे।

3. यदि रासायनिक पाउडर के रूप में है, तो उसे पीड़ित की त्वचा से ब्रश कर दें।

4. किसी भी प्रकार के मारक (एंटीडोट) या क्षार का प्रयोग करने में समय न बर्बाद करें अगर आपको एसिड अटैक पीड़ितों को संभालने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया गया है।

5. सबसे प्रभावी तरीका है कि जले हुए हिस्से पर कम से कम 20 मिनट तक पानी डालें। ऐसा करने से रसायनों का प्रभाव काफी कम हो जाता है।

6. कोशिश करें कि पीड़ित का क्षतिग्रस्त हिस्सा पानी में डुबाएं, मगर इस बात का भी ख्याल रखें कि पीड़ित के आस-पास कोई न हो वर्ना दूषित पानी से किसी और को भी हानि पहुंच सकती है।

7. पीड़ित के घाव पर किसी भी प्रकार के कपडे का प्रयोग न करें तथा जितनी जल्दी हो सके एम्बुलेंस को कॉल करें। पीड़ित के सांस की जांच करें और उन्हें शांत रखें।

8. यदि एसिड पीड़ित की आंखों में चला गया है, तो आंखों को 10 मिनट तक पानी से साफ़ करें। पीड़ित को अपनी आंखों को स्पर्श न करने दें और न ही लेंस हटाने दें। हाथों पर एसिड अधिक नुकसान कर सकता है।

9. सुनिश्चित करें कि दूषित पानी आंखों में न जाए। यदि उपलब्ध हो, तो मदद से आने तक पीड़ित को अपनी आंखों में साफ फूला हुआ पैड रखने के लिए कहें।


Advertisement

भारत में एसिड के हमलों को रोकने के लिए, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को ओवर-द-काउंटर एसिड की बिक्री को सीमित करने का आदेश दिया था। हालांकि, अधिकारी इस नियम को पूरी तरह लागू करने में विफल रहे हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement