ब्रह्मोस की तैनाती पर चीन ने दी चेतावनी, भारत ने कहा ‘अपने काम से मतलब रखो’

author image
8:42 pm 23 Aug, 2016

Advertisement

अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मोस मिसाइलों के रेजीमेन्ट की तैनाती पर चीन ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा है कि इससे क्षेत्रीय स्थायित्व पर नकारात्मक असर पड़ेगा। इसका जवाब देते हुए भारतीय पक्ष ने यह स्पष्ट किया है कि यहां के फैसले बीजिंग में तय नहीं होंगे।

एनडीटीवी की रिपोर्ट में भारतीय सेना के उच्च पदस्थ अधिकारी के हवाले से बताया गया है कि चीन को यह साफ शब्दों में कहा गया है कि हमारी सुरक्षा संबधी चिताएं हमारी अपनी हैं और हम अपने इलाके में किस तरह की तैनाती करें, ये तय करना हमारे अपने अधिकार क्षेत्र में है।

गौरतलब है कि भारतीय सेना अरुणाचल प्रदेश में चीन की सीमा पर 100 ब्रह्मोस मिसाइलों की तैनाती करने जा रही है। चीन ने इस पर आपत्ति जताई है। चीन में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेली के मुताबिक चीन से सटी सीमा पर ब्रह्मोस की तैनाती से क्षेत्रीय स्थायित्व पर नकारात्मक असर पड़ेगा।



वहीं, इस मुद्दे पर आज कांग्रेस पार्टी ने केन्द्र सरकार का समर्थन किया है। दूसरी तरफ, भारतीय सेना ने स्पष्ट कर दिया है कि हम अपनी सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए इस तरह के कदम उठाने को स्वतंत्र हैं और इससे दूसरे पक्ष पर असर नहीं पड़ना चाहिए।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल करीब 290 किलोमीटर तक के निशाने को ध्वस्त कर सकती है। चीन के लिए चिन्ता की बात यह है कि उसके पास ब्रह्मोस का तोड़ उपलब्ध नहीं है। ब्रह्मोस की मारक क्षमता एक किलोमीटर प्रति सेकेन्ड है, वहीं चीन के पास मौजूद सबसोनिक मिसाइल की मारक क्षमता 290 मीटर प्रति सेकेन्ड है।

ब्रह्मोस की तैनाती के बाद चीन का तिब्बत और युन्नान प्रान्त इसकी जद में होंगे।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement