अगर आपके घर में भी है तुलसी का पौधा तो रखें इन बातों का ध्यान

Updated on 16 Jun, 2018 at 9:55 am

Advertisement

हिंदु धर्मग्रंथों और शास्त्रों में तुलसी का विशेष महत्व है। भारत में सदियों से आंगन में तुलसी का पौदा लगाने की परंपरा रही है। सनातन धर्म में तुलसी को पूजनीय  माना गया है। इसलिए हजारों सालों से लोग तुलसी की पूजा अर्चना करते आ रहे हैं। इस देश में तुलसी को न सिर्फ धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माना गया है, बल्कि ये कई प्रकार के रोगों में भी लाभकारी है। तुलसी एक ऐसा पवित्र पौधा है जिसमें कई प्रकार के आध्यात्मिक और भौतिक गुण उपलब्ध हैं। अगर आपने भी अपने घर में तुलसी का पौधा लगा रखा है तो आपको इन बातों का खासतौर पर ध्यान रखना चाहिए।

मुंह में रखकर तुलसी को न चबाएं

हिंदु धर्म में तुलसी के पत्ते को मुंह में रखकर चबाना अशुभ माना गया है। इसलिए कभी भी तुलसी का पत्ता मुंह में रखकर न चबाएं। यदि आप तुलसी का पत्ता खाना चाहते हैं, तो इसे बिना चबाए ही निगल जाइए।

 

शिवलिंग पर न चढ़ाएं तुलसी

शिवपुराण में इस बात का उल्लेख है कि असुर शंखचूड़ की पत्नी तुलसी के पतिधर्म की वजह से उसे कोई भी देव पराजित नहीं सकता था। भगवान विष्णु ने छल से तुलसी के पतिव्रत को तोड़ दिया था। इसके बाद ही भगवान शिव, असुर शंखचूड़ का वद्ध कर पाए थे। इस छल से क्रोधित होकर तुलसी ने ये प्रण लिया कि उसका प्रयोग कभी भी भगवान शिव की पूजा में नहीं किया जाएगा।

 

अकारण ही न तोड़े तुलसी के पत्ते 

अकारण ही तुलसी के पत्तों को तोड़ना अशुभ माना जाता है। इसके अलावा एकादशी, रविवार, सूर्य या चंद्र ग्रहण के दिन तुलसी के पत्तों को नहीं तोड़ना चाहिए। तुलसी को एक पवित्र पौधा माना जाता है। इसलिए जरूरत पड़ने पर ही तुलसी के पत्तों को तोड़ें।

 

रोज करें तुलसी की पूजा

धर्मग्रंथों और शास्त्रों के अनुसार हर रोज सुबह उठकर तुलसी की पूजा करनी चाहिए। माना जाता है कि संध्या के वक्त तुलसी के पास दीपक जलाने से लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है।

 

 

पवित्र पौधा है तुलसी


Advertisement

एक तुलसी ही ऐसा पौधा है जो कभी अपवित्र नहीं होता, यदि आप एक बार पूजा में तुलसी का इस्तेमाल कर चुके हैं तो दोबारा भी इसे धोकर पूजा में इस्तेमाल किया जा सकता है।

 

 वास्तुदोष  दूर करती है तुलसी

घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाने से किसी भी तरह का वास्तुदोष दूर हो जाता है।

 

गणेश पूजन में तुलसी का प्रयोग न करें

हिंदू धर्म के अनुसार गणेश पूजन में तुसली का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। हिंदु धर्म की कथा के अनुसार एक समय गणेश जी अपनी तपस्या में लीन थे कि तभी वहां तुलसी आ गई। गणेश जी के मुख पर तेजस्वी ओज देखकर तुलसी उनकी ओर आकर्षित हो गई। तुलसी ने उनके आगे विवाह का प्रस्ताव रखा जिसे गणेश जी ने ठुकरा दिया और साथ ही ये श्राप भी दिया कि उनकी पूजा में कभी तुलसी का प्रयोग नहीं  किया जाएगा।

 

घर में न रखें तुलसी का सूखा पौधा

यदि आपके घर में रखा तुलसी का पौधा सूख गया है तो उसे किसी नदी या तालाब में प्रवाहित कर दें। तुलसी के सूखे पौधे को घर में रखना अशुभ माना जाता है।

 

दूषित वातावरण को करती है पवित्र

तुलसी घर के वातावरण को पवित्र रखती है। साफ सुथरे वातावरण के कारण घर में लक्ष्मी का वास होता है और  सुख-समृद्धि  बनी रहती है।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement