इस गीत को सुनकर न जाने कितने लोग कर चुके हैं आत्महत्या, लगाना पड़ा था प्रतिबंध

author image
Updated on 24 Oct, 2016 at 8:10 pm

Advertisement

हम सभी ने दुःख-भरे गीत सुने होंगे। ऐसा माना जाता है ऐसे गीत दिल को उस वक़्त शांत करने में सहायक होते हैं, जब वह उदास या परेशान होता है। लेकिन क्या आप यह विश्वास कर सकते हैं कि कोई गीत आत्महत्या करने के लिए भी मजबूर कर सकता है? तो यह पढ़िए।

‘ग्लूमी संडे’ नामक गीत को शायद विश्व के इतिहास में सबसे शापित गीत माना जाता है। इस गीत को सुनकर अभी तक सौ से भी अधिक लोग ख़ुदकुशी कर चुके हैं।

‘ग्लूमी संडे’ नामक इस गीत को हंगरी के रहने वाले 34 वर्षीय रेज़सो सेरेस ने 1933 में लिखा था। बाद में इसका नाम बदल कर ‘हंगरी सूइसाइड सॉंग’ रख दिया गया।

कौन थे रेज़सो सेरेस ?

रेज़सो सेरेस हंगरी में जन्मे थे। वह बचपन में बेहद होनहार थे, लेकिन गरीबी की वजह से अधिक आगे नहीं जा पाए। रेज़सो सेरेस का बचपन बहुत सख्त दौर से गुज़रा और रेज़सो की यह सारी पीड़ा उनके अंदर घर करती गई।

रास नहीं आई मोहब्बत

कहते हैं मोहब्बत हर किसी को रास नही आती, कुछ ऐसा ही हुआ सेरेस के साथ। दरअसल, सेरेस एक लड़की से बेहद प्यार करते थे, लेकिन उस लड़की को सेरेस को एक संगीतकार के रूप में देखना पसंद नही था। इस वजह से उनमें काफ़ी विवाद भी होता था और एक दिन वह लड़की सेरेस को छोड़ कर चली गयी।

प्रेमिका की आत्महत्या के बाद रचा गया यह गीत


Advertisement

ऐसा कहा जाता है कि रेज़सो सेरेस से बिछड़ने के बाद उनकी प्रेमिका ने आत्महत्या कर ली और उनकी गर्लफ़्रेन्ड के शव के पास एक नोट मिला था, जिस पर दो ही शब्द लिखे हुए थे “ग्लूमी संडे”। रेज़सो सेरेस भी यह दर्द सह नहीं सके और प्रेमिका की जुदाई में उन्होंने यह गाना लिखकर यूँ ही अपनी दर्द भरी आवाज़ में गा दिया। यह गाना बहुत प्रचलित हुआ, लेकिन इसकी प्रसिद्धि का कारण कुछ और ही था।

कई आत्महत्या के क़िस्सों से जुड़ा है ‘ग्लूमी संडे’

इस गाने से जुड़ी कई कहानियाँ हैं। हंगरी में एक लड़की ने गाना सुनते-सुनते छत से कूद के जान दे दी। दूसरे हादसे में एक महिला ने गाना सुनते-सुनते ज़हर खाकर आत्महत्या कर ली। इस गाने से जानें कितने ही आत्महत्या के किस्से जुड़े हुए हैं।

सरकार को लगाना पड़ा प्रतिबंध

ब्रिटेन और हंगरी में इस गाने को सुनकर इतनी आत्महत्या हो रही थी कि सरकार को इसे बैन करना पड़ा। कहा जाता है कि इस गीत को लिखने वाले रेज़सो सेरेस ने खुद भी आत्महत्या ही की थी। वर्ष 1968 में रेज़सो सेरेस ने एक बिल्डिंग से कूदकर आत्महत्या कर ली थी।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement