Advertisement

ऐसे बचेंगी मासूम ज़िन्दगियां, होटल कर्मचारियों को मिलेगी ट्रेनिंग

10:58 am 5 Aug, 2017

Advertisement

सेक्स ट्रैफिकिंग भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लिए चिंता का सबब है। हर साल सैकड़ों की संख्या में लड़कियों और बच्चों को देह-व्यापार के दलदल में धकेल दिया जाता है। इनसे जानवरों की तरह सलूक किया जाता है। एक बार फंसने के बाद इनकीि घर-वापसी नामुमकिन होती है।

अब मासूम जिन्दगियों को सेक्स ट्रैफिकिंग से बचाने के लिए नई पहल की जा रही है। इसके तहत मुंबई सहित देश के अन्य शहरों के होटल अपने कर्मचारियों को सेक्स ट्रैफिकिंग के संबंध में प्रशिक्षित करेंगी। यह पहल थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन कर रहा है।

फाउंडेशन एक ऐसे एप पर भी काम कर रहा है, जो होटल कर्मचारी और स्थानीय पुलिस को किसी भी संदिग्ध गतिविधि की सूचना देगा। एप का नाम Rescue Me App है, जिसे कुछ ही महीनों में लांच कर दिया जाएगा। होटल व्यवसाय से जुड़े एक अधिकारी का कहना है कि होटल के माध्यम से ही अधिकतर ट्रैफिकिंग की जाती है। इस पर अब लगाम लगायी जा सकेगी।


Advertisement

बड़े शहरों में मुंबई सेक्स ट्रैफिकिंग के लिए बदनाम है। नौकरी का लालच देकर देश और पड़ोसी देशों की कई लड़कियों और महिलाओं को यहां लाया जाता है और सेक्स के धंधे में धकेल दिया जाता है। लिहाजा महाराष्ट्र सरकार भी इस ग्रुप को हर संभव सहायता दे रही है।

बताया गया है कि होटल के कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि वे कमरा बुक करने के लिए आए लोगों के क्रियाकलाप और हावभाव का पता लगा सकें। यह कदम छोटा भले लग रहा हो, लेकिन इससे कई मासूमों की ज़िन्दगी बचा सकती है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement