भारत का पहला जीवित तंत्र है गंगा, हाईकोर्ट का फैसला

author image
5:48 pm 20 Mar, 2017

Advertisement

एक अभूतपूर्व फैसले में उत्‍तराखंड की नैनीताल हाईकोर्ट ने गंगा नदी को भारत के पहले जीवित तंत्र के रूप में मान्‍यता दी है। हाईकोर्ट का कहना है कि भारत की पौराणिक नदियों गंगा और यमुना को एक मान की तरह संविधान की तरफ से मुहैया कराए गए सभी अधिकार सुनिश्चित किए जाने चाहिएं।


Advertisement

सर्वविदित है कि गंगा नदी भारत की सबसे महत्वपूर्ण पौराणिक नदी है। यह हिमालय से निकलकर भारत के मैदानी इलाकों से होते हुए बंगाल की खाड़ी में मिलती है।

इससे पहले गंगा नदी को संरक्षित करने के उद्येश्य से इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी महत्वपूर्ण फैसले दिए थे। हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकार को गंगा के आसपास पॉलिथीन, प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने का आदेश जारी किया था। साथ ही गंगा में पर्याप्त पानी छोड़ने के लिए कहा था।

फिलहाल केन्द्र सरकार गंगा नदी को स्वच्छ बनाने के लिए नमामि गंगे नामक परियोजना पर काम कर रही है। इससे पहले गंगा को प्रदूषण मुक्त करने पर करीब 30 हजार रुपए खर्च किए जा चुके हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement