15 साल के हर्ष ने हिमाचल ओलंपिक में लहराया जीत का परचम

author image
Updated on 4 Jul, 2017 at 7:19 pm

Advertisement

“उन लोगों में एक ताकत होती है जो बड़े सपने देखते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं।”

हर्ष गुप्ता एक ऐसे युवक का नाम है, जिसने अपने कड़े प्रयासों से अपने सपने को सच कर दिखाया। पिस्टल शूटिंग में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 15 वर्षीय हर्ष ने हिमाचल प्रदेश राज्य ओलंपिक में आयोजित होने वाली शूटिंग चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक जीते हैं।

अभिनेता सुनील शेट्टी हिमाचल प्रदेश राज्य ओलंपिक में 10 मीटर एयर पिस्टल शूटिंग के विजेताओं के साथ।

हिमाचल प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन के बैनर तले हिमाचल के हमीरपुर में 13 साल बाद 22 जून से 25 जून तक स्टेट ओलंपिक गेम्स का आयोजन किया गया था। करीबन 3000 खिलाडियों समेत राज्यपाल आचार्य देवव्रत व भाजपा सांसद तथा एचपी ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर की मौजूदगी में जून 17, 2017 को स्टेट ओलंपिक गेम्स की टॉर्च रन आयोजित की गई। फ्लैग ऑफ सेरेमनी में ओलंपियन और अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित मुक्केबाज शिव थापा, मनोज कुमार, सुमित सांगवान और धर्मेंद्र सिंह भी मौजूद रहे।

हिमाचल प्रदेश राज्य ओलंपिक में हॉकी, एथलेटिक्स, मुक्केबाजी, बास्केटबॉल, जूडो, कबड्डी, वॉलीबॉल, कुश्ती, खो-खो, वेटलिफ्टिंग और शूटिंग जैसे खेलों का आयोजन किया गया।  इन्हीं खेलों में से एक शूटिंग प्रतियोगिता में पूरे राज्य भर में से 60 से अधिक प्रतियोगियों ने भाग लिया।



इस प्रतियोगिता में हर्ष गुप्ता ने 553 अंक के सर्वाधिक स्कोर के साथ, 3 अंकों की बढ़त बनाते हुए, 10 मीटर एयर पिस्टल शूटिंग (पुरुष) में स्वर्ण पदक जीत लिया। ऐसे ही शूटिंग के सभी शीर्ष दावेदारों (महिला और पुरुष वर्ग) के बीच हुई एक प्रतियोगिता में हर्ष ने अपने विजयी प्रदर्शन को बरकरार रखते हुए एक और स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

पुरस्कार वितरण समारोह में लोकप्रिय बॉलीवुड स्टार सुनील शेट्टी उपस्थित ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई, जिन्होंने विजयी खिलाडियों को पदक से सम्मानित किया।

सुनील शेट्टी स्वर्ण पदक विजेता हर्ष गुप्ता को बधाई देते हुए।

हिमाचल प्रदेश, सोलन के पाइन ग्रोव स्कूल के छात्र हर्ष पिछले दो सालों से एयर पिस्टल शूटिंग की कड़ी ट्रेनिंग ले रहे हैं।

हर्ष के कोच टीका राम और मनीष गिरि उनके खेल के प्रति समर्पण से बेहद प्रभावित है। उनका मानना है कि अगर हर्ष इसी तरह पूरी लगन के साथ आगे बढ़ता रहा तो कोई भी उसे राष्ट्रीय ओलंपिक चैंपियन बनने से नहीं रोक सकता।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement