जानिए हाफिज सईद की गिरफ्तारी से भारतीयों को क्यों खुश होना चाहिए

author image
Updated on 31 Jan, 2017 at 9:14 am

Advertisement

मुंबई हमलों में शामिल अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी सरगना हाफिज सईद को कल देर रात लाहौर में नजरबंद कर दिया गया।

अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी सरगना हाफिज सईद।

हालांकि, बाद में सईद ने एक विडियो जारी कर कहा है कि उसे गिरफ्तार किया गया है। इस विडियो में उसने भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर भी जमकर निशाना साधा है। सईद के संगठन जमात-उद-दावा के मुताबिक, पंजाब सरकार के गृह विभाग ने सईद की नजरबंदी का आदेश जारी किया और लाहौर पुलिस ने चौबुरजी स्थित जमात-उद-दावा मुख्यालय पहुंचकर इस आदेश को क्रियान्वित किया।

सईद ने आरोप लगाया है कि उस पर कार्रवाई के लिए डोनाल्ड ट्रम्प तथा नरेन्द्र मोदी जिम्मेदार हैं।

पाकिस्तान की मीडिया में इस बात पर चर्चा है कि हाफिज सईद को अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के डर से नजरबंद किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सईद को लाहौर के ही किसी गुप्त स्थान में रखा गया है। गौरतलब है कि अमेरिका ने 7 मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में आने पर बैन लगा दिया है।

माना जा रहा है कि अमेरिका के निशाने पर अगला मुस्लिम देश पाकिस्तान है, जिस पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। इससे बचने के लिए पाकिस्तान सरकार ने जल्दबाजी में कार्रवाई करते हुए हाफिज सईद को गिरफ्तार किया है, ताकि यह लगे कि वह आतंकवाद के खिलाफ सक्रिय भूमिका निभा रहा है।

यहां देखिए हाफिज सईद का विडियो

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद जमात-उद-दावा पर प्रतिबंध लगा चुका है। साथ ही हाफिज सईद को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया गया है। इससे पहले सोमवार को ही पाकिस्तान के गृहमंत्री चौधरी निसार अली खान ने कहा था कि जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद को अमेरिका ने आतंकी घोषित किया है। खान ने ये भी कहा कि पाकिस्तान सईद पर 2010 से ही नजर रख रहा था।

करीब तीन दिन पहले पंजाब के गृह मंत्रालय ने सईद और चार अन्य अब्दुल्ला उबैद, जफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद और काजी कासिफ नियाज के नाम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 1267 प्रस्तावों के तहत निगरानी सूची में डाल दिए थे। इन्हें हिरासत में लेने का आदेश दिया था। हाफिज के साथ नजरबंद किए गए आतंकियों में उबैद, इकबाल, आबिद और नियाज भी शामिल हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement