Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

इस कॉलेज में बिछा है सुरंगों और तहखानों का जाल, निकली तोपें

Published on 4 July, 2016 at 5:55 pm By

ग्वालियर शहर का हमेशा से ही एक दिलचस्प इतिहास रहा है। ब्रिटिश शासन के दौर में एक राजसी राज्य होने के नाते, ग्वालियर की ज़्यादातर वास्तुकला विरासत राजाओं के समय से ताल्लुक रखती है।

इसी तर्ज पर जो नई बात सामने आई है, उसका ताल्लुक भी राजसी घरानों से लगाया जा रहा है। कमला राजा गर्ल्स कॉलेज की इमारत के तहखाने में कई सुरंगों का जाल बिछा हुआ है, जिसके बारे में ज़्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है।


Advertisement

Secret tunnel

दैनिक भास्कर में प्रकाशित इतिहासकार रमाकांत चतुर्वेदी के विश्लेषण के अनुसार, इन सुरंगों के अस्तित्व में होने की जानकारी साल 1984-85 में मिली थी, लेकिन बाद में  जिला प्रशासन ने इन सुरंगों को बंद करवा दिया था।

सिंधिया शासन के दौरान, इस कॉलेज में शिक्षा विभाग का कार्यालय हुआ करता था और यह सबसे महत्वपूर्ण कार्यालयों में से एक था।

KRG College

 

1984-85 में रियासत से संबंधित फाइलों को हटाने के दौरान इन सुरंगों के बारे में पता चला।

जब वहां से फाइल्स को हटाया जा रहा था, तब अचानक से वहां मौजूद पटिया सरक गई। तब लोगों ने पाया कि गुप्त सीढ़ियां सुरंग की ओर जा रही है। उस सुरंग के अंदर मौजूद गर्म हवा को बाहर निकालने के लिए सबसे पहले वहां पूरी रात एक एग्जॉस्ट फैन लगवाया गया ताकि अंदर जाया जा सके।

इसके बाद जब अंदर प्रवेश किया गया तब वहां मौजूद लोग भौचके रह गए। सुरंग के अंदर एक बड़े कमरे में तोपें रखी हुई थीं। तोपों का आकार इस बात की ओर इशारा कर रहे थे कि इन्हें ऊपर सीढ़ियों के जरिए नहीं लाया जा सकता।



Secret tunnel


Advertisement

 

बाद में जब इस बात की जड़ तक जाने का प्रयास किया गया तब सामने आया कि यह कमरा और अन्य सुरंगों से जुड़ा हुआ है।

चतुर्वेदी लिखते हैं कि केआरजी इमारत में कुल तीन सुरंगें मिली। इनमें से एक सुरंग गोरखी, दूसरी जयविलास पैलेस और तीसरी सुरंग परिवहन कार्यालय तक जाती है।

Secret tunnel

 

यह तीनों ही सुरंगें केआरजी कॉलेज के पीछे के हिस्से में बनी हुई हैं। यहां से मिली तोपों को नगर पालिका के संग्रहालय के बाहर रखा गया है।


Advertisement

अभी तक कोई भी यह अनुमान नहीं लगा पाया है कि यह तोपें कितनी पुरानी हैं और इनका इतिहास क्या है।

Advertisement

नई कहानियां

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी


इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें History

नेट पर पॉप्युलर